अन्तर्राष्ट्रीय कम्प्यूटर ओलम्पियाड ‘ई-कोफास 2020’ का आॅनलाइन भव्य उद्घाटन

लखनऊ, 27 नवम्बर। सिटी मोन्टेसरी स्कूल, राजेन्द्र नगर (प्रथम कैम्पस) द्वारा आयोजित चार दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय कम्प्यूटर ओलम्पियाड ‘ई-कोफास-2020’ का आज आॅनलाइन भव्य उद्घाटन समारोह सम्पन्न हुआ। मुख्य अतिथि,   श्री नवनीत सहगल, आई.ए.एस., अतिरिक्त मुख्य सचिव, सूचना, उ.प्र. ने वर्चुअल दीप प्रज्वलन द्वारा समारोह का शुभारम्भ किया जबकि रंगारंग शिक्षात्मक-साँस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुतियों के बीच रूस, जार्डन, बांग्लादेश, ओमान, कतर एवं भारत के विभिन्न राज्यो के प्रतिष्ठित विद्यालयों की प्रतिभागी छात्र टीमों ने अपनी आॅनलाइन उपस्थित दर्ज कराते हुए अपना परिचय प्रस्तुत किया। इस अवसर पर सी.एम.एस. संस्थापक व प्रख्यात शिक्षाविद् डा. जगदीश गाँधी ने प्रतिभागी छात्रों को आशीर्वाद देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की। विदित हो कि इस अन्तर्राष्ट्रीय कम्प्यूटर ओलम्पियाड में रूस, जार्डन, बांग्लादेश, ओमान, कतर एवं भारत के  विभिन्न विद्यालयों से 50 से अधिक छात्र टीमें प्रतिभाग कर रही हैं। कम्प्यूटर ओलम्पियाड का उद्देश्य छात्रों व युवा पीढ़ी को उन्नत प्रौद्योगिकी से रूबरू कराना व कम्प्यूटर ज्ञान के प्रति प्रोत्साहित करना है, साथ ही भावी पीढ़ी में एकता, शान्ति व सद्भाव की भावना का विकास करना है।
 इस अवसर पर मुख्य अतिथि श्री नवनीत सहगल, आई.ए.एस., अतिरिक्त मुख्य सचिव, सूचना, उ.प्र. ने अपने संबोधन में कहा कि कम्प्यूटर एवं विज्ञान को सभी क्षेत्रों में अपनाने की आवश्यकता है, तभी हम विश्व के साथ मिलकर आगे बढ़ सकेंगे। उन्होंने भावी कम्प्यूटर वैज्ञानिकों को विज्ञान का उपयोग मानवता की भलाई के लिए करने हेतु प्रेरित करते हुए कहा कि कोफास जैसे आयोजनों से भावी वैज्ञानिकों को अपनी प्रतिभा को विकसित करने का पूरा लाभ उठाना चाहिए।
 ई-कोफास-2020 के उद्घाटन अवसर पर बोलते हुए सी.एम.एस. संस्थापक व प्रख्यात शिक्षाविद् डा. जगदीश गाँधी ने कहा कि छात्रों में ज्ञान की मसला जलाने एवं उनमें एकता, शान्ति व सद्भाव की भावना का विकास करने हेतु कोविड-19 के इस दौर में भी लगातार 20वीं बार इस अन्तर्राष्ट्रीय कम्प्यूटर ओलम्पियाड का आयोजन किया जा रहा है। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि यह ओलम्पियाड छात्रों की बौद्धिक क्षमता को तो बढ़ायेगा ही, साथ ही इससे ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ की संस्कृति का विस्तार भी होगा। सी.एम.एस. प्रेसीडेन्ट एवं एम.डी. प्रो. गीता गाँधी किंगडन ने कहा कि कम्प्यूटर का ज्ञान आज प्रत्येक छात्र के लिए अनिवार्य है क्योंकि आज कम्प्यूटर मात्र शैक्षिक व व्यावसायिक प्रक्रिया का साधन ही नहीं अपित दैनिक जीवन का एक अंग बन चुका है। इस ओलम्पियाड में प्रतिस्पर्धा के साथ ही छात्रों को काफी कुछ सीखने को मिलेगा।
 ‘ई-कोफास-2020’ की संयोजिका एवं सी.एम.एस. राजेन्द्र नगर (प्रथम कैम्पस) की प्रधानाचार्या श्रीमती जयश्री कृष्णन ने बताया कि अन्तर्राष्ट्रीय कम्प्यूटर ओलम्पियाड के अन्तर्गत देश-विदेश के भावी बाल वैज्ञानिकों के लिए काॅन्फैबुलर (डिबेट), एड टेक (एडवरटीजमेन्ट), ई-कोफास डूडल, रेन्डीशन (पेपर प्रजेन्टेशन), क्रिएटर्स (लोगो डिजाइनिंग), दू फूटेज (स्टेारी), टीनोवेशन्स (साइंस माडल), काॅस्टेक (कोरियोग्राफी) आदि रोचक प्रतियोगिताएं आयोजित की जा रही हैं। प्रतियोगिताओं का आयोजन जूनियर एवं सीनियर वर्गों में किया जायेगा। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि ये प्रतियोगिताएं छात्रों की प्रतिभा को तो उभारेंगी ही अपितु उनके मनोबल व आत्मविश्वास को बढ़ाने में सहायक होंगी एवं चुनौतियों को सहर्ष स्वीकार करने का हौसला देंगी। प्रतियोगिताओं का दौर कल 28 नवम्बर को प्रातः 9.30 बजे से प्रारम्भ होगा।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या