चाइल्डलाइन से दोस्ती सप्ताह के तहत विद्यालयों में हुआ कार्यक्रम




 

-बाबा लल्ली निषाद उ0 म0 विद्यालय परसनी मोराकांदर में सम्पन्न हुई रंगोली प्रतियोगिता।

 

हमीरपुर, 18 नवंबर 2020 को इंटर कॉलेज परसनी मोराकांदर  विकासखंड सुमेरपुर हमीरपुर में चाइल्डलाइन से दोस्ती सप्ताह के तहत आयोजन किया गया।महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के सहयोग से चाइल्डलाइन इंडिया फाउंडेशन दवारा सहायतित चाइल्डलाइन (कृति शोध संस्थान) के तहत रंगोली प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। चाइल्डलाइन से दोस्ती के अंतर्गत विद्यालय की बालिकाओं ने बाल सुरक्षा को लेकर कई प्रकार की रंगोली बनाई। जिसमें  बालश्रम न करके गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के बारे में रंगोली बनायी।

चाइल्डलाइन 1098 के केन्द्र समन्वयक प्रदीप सिंह ने बताया कि विगत वर्षों की भांति इस वर्ष भी चाइल्डलाइन से दोस्ती सप्ताह मनाया जा रहा है जिसमे स्वयं सेवी संस्थाओं व सरकारी तंत्र के साथ समन्वय स्थापित करके बाल अधिकारों के सुनिशितीकरण के लिए विभिन्न प्रकार की गतिविधिया संचालित की जा रही है जैसे पतंग प्रतियोगिता, रंगोली प्रतियोगिता, कला प्रतियोगिता, दीवार लेखन, हस्ताक्षर कंपेन व चाइल्डलाइन रक्षा सूत्र आदि।

रंगोली प्रतियोगिता में प्रियंका व तलत फात्मा ने विद्यालय की बालिकाओं को नारा के माध्यम से समझाया कि मेरा पहला है अधिकार जीवित रहूँ देखूँ संसार, मेरा दूसरा है अधिकार विकसित हो सारा परिवार, मेरा तीसरा है अधिकार बनूँ विकास में भागीदार और मेरा चौथा है अधिकार मिले सुरक्षा का अधिकार, के बारे में विस्तारपूर्वक बताया गया।

अंत मे गौरव शुक्ल के द्वारा चाइल्डलाइन के मुददों पर प्रकाश डालते हुए बताया कि हमारी संस्था बाल सुरक्षा के मुद्दे पर विगत दो वर्षों से कार्य कर रही है। जिसके तहत 24 घण्टे निशुल्क हेल्पलाइन सेवा के माध्यम से 60 मिनिट के अंदर लोगो को मदद उपलब्ध करायी जाती है। जिसमें अभी तक कुल 564 बच्चों तक मदद पहुचायी जा चुकी है।

कार्यक्रम में चाइल्डलाइन टीम से गौरव शुकला, तलत फातमा, प्रियंका देवी, सुषमा सिंह, गोविंद ,ज्योति व रीतू के साथ  विद्यालय की बालिकाएं प्रिया, काजल, आरती, संजना, प्रीति, ममता, रागनी, संध्या के साथ साथ विद्यालय के प्रधानाचार्य मिथिला सरन मिश्र व स्टाफ ने कार्यक्रम में सराहनीय सहयोग प्रदान किया।


 

 




इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि