ग्राम बनायाना, बड़गाना, सौराई में किसानों को किया गया बीज वितरण


ललितपुर।
बुंदेलखंड सेवा संस्थान द्वारा आयोजित रबी फसल प्रबंधन प्रशिक्षण एवं बीज वितरण कार्यक्रम में उपस्थित प्रधान एवं किसानों को संबोधित करते हुए माँ विंधेश्वरी शक्ति पीठ बनयाना के महन्त अनिल दास महाराज ने कहा कि बुंदेलखंड सेवा संस्थान सुदूर वनांचल में स्थित विकास से वंचित गांवों में हाशिये में जी रहे अंतिम व्यक्ति की आवाज बनकर सर्वांगीण विकास के लिए समर्पित है। कोरोना काल मे लघु एवं सीमांत किसानों को खेती में बुवाई हेतु गेहूँ के बीज वितरण करके सैकड़ों किसानों को लाभान्वित करते हुए प्राकृतिक खेती करने के लिए किसानों को प्रोत्साहित करने का सराहनीय कार्य किया जा रहा है।


उन्होंने कहा कि आज शुद्व अनाज रसायनमुक्त फसल उत्पादन फल फूल सब्जियों का उत्पादन करने व खाने शुद्ध पयेजल का उपयोग करना प्रत्येक मानव का धर्म है। रसायनयुक्त अनाज उत्पादन के लिये तथा प्राकृतिक करने के लिए सरकार द्वारा भी प्रचार प्रसार व सहयोग दिया जा रहा है। किसान जागरूक होकर सरकारी योजनाओं का लाभ उठाएं। 


बुंदेलखंड सेवा संस्थान द्वारा ग्राम बड़गाना एवं बनयाना में रबी की मुख्य फसल गेहूँ के बुवाई के पूर्व किसानों को एवं तालाब प्रबंधन समिति के सदस्यों का प्रशिक्षण किया गया। प्रशिक्षण के दौरान खेत की तैयारी प्राकृतिक विधि से घनजीवअमृत, जीवाअमृत, बनाने व गेहूं की बुवाई के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई।


बुंदेलखंड सेवा संस्थान प्रतिनिधि विवेक सिंह ने बताया कि वर्तमान में रसायनयुक्त खेती जहर मुक्त भोजन करने की जरूरत है जिससे घर परिवार स्वस्थ रहेगा प्राणघातक बीमारियों से बचेंगें। खेती में लागत कम करेंगें तभी किसानों की आय दोगुनी होगी। उन्होंने सभी किसानों को गोबर एवं गौमूत्र का उपयोग करके प्राकृतिक खेती करना होगा। मां बिंधेस्वरी शक्ति पीठ बनयाना के महंत अनिल दास महाराज ने कहा कि क्षेत्र के विकास से वंचित गांवों में संस्थान  सफल प्रयोग कर रहा है। सभी किसानों की जिम्मेदारी है कि वे प्राकृतिक खेती करके जहरमुक्त फसल, फल, फूल, सब्जी का उत्पादन करें तभी उनके परिवार का कल्याण होगा। बुंदेलखंड सेवा संस्थान के वरिष्ठ सामाजिक कार्यकर्ता वासुदेव सिंह ने अपने उदबोधन में कहा कि वर्तमान में किसान जहर मुक्त भोजन जहर मुक्त हवा, जहरमुक्त सब्जी, जहरमुक्त पानी के उपयोग से ही मानव जीवन सुरक्षित रहेगा। ग्राम प्रधान बनयाना तुलसीराम ने कहा कि संस्थान ने तालाब खुदाई कराके बरसात का पानी बचाने उर्द, गेहूं का बीज वितरण व अमृत खाद तथा फलदार वृक्ष देकर हमारी पंचायत के किसानों को लाभान्वित किया है हम अपने गाँव में प्राकृतिक खेती करेंगें। ग्राम प्रधान बड़गाना जाहर सिंह ने  संस्थान के लोकहितकारी कार्यो की सराहना की ।


ग्राम प्रधान प्रतिनिधि सोरई धर्मेंद्र सिंह द्वारा तालाब प्रबन्धन समिति सदस्यों द्वारा गेँहू बीज अमृत खाद का वितरण किया गया। इस दौरान ग्राम प्रधान प्रतिनिधि धर्मेंद्र सिंह ने कहा कि सौरई ग्राम पंचायत में काफी विकास कार्य कराए गये हैं। उन्होंने बताया कि गाँव में 142 प्रधानमंत्री आवास बनाये गए हैं, 700 शौचालय, 7000मीटर सीसी रोड, विधायक निधि से ब्रिक्स रोड 100-100 मीटर, एक मुक्ति धाम, एक सामुदायिक शौचालय, 275 लोगों को वृद्धावस्था पेंशन, 85 लोगों को विकलांग पेन्शन, 201 महिलाओं को विधवा पेंशन का लाभ दिया गया है।इसके अलावा 386 आवास और स्वीकृत कराये गए हैं।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

होमियोपैथी कोरोना के नए वैरीअंट के खिलाफ महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है-डॉ एम डी सिंह