जिन सामुदायिक शौचालयों का निर्माण कार्य पूरी तरह पूर्ण हो गया है, उन सामुदायिक शौचालयों को महिला स्वयं सहायता समूहों को रख-रखाव हेतु शीघ्र ही दे दिये जाएं - मनोज कुमार सिंह

लखनऊः दिनांक 18 नवम्बर, 2020
अपर मुख्य सचिव पंचायतीराज श्री मनोज कुमार सिंह ने जनपद फतेहपुर, फरूखाबाद, प्रतापगढ, मऊ, कानपुर देहात व बलियाॅं मे सामुदायिक शौचालय निर्माण, पंचायत भवन निर्माण एवं मनरेगा कार्यो में धीमी प्रगति होने पर नाराजगी व्यक्त की और इन जनपदों के मुख्य विकास अधिकारियों को निर्देशित किया है कि विकास एंव निर्माण कार्य निर्धारित समय के अन्दर कराया जाना सुनिश्चित किया जाये इसमें किसी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नही की जायेगी।
यह निर्देश श्री सिंह ने आज योजना भवन स्थित सभाकक्ष में विडियों कान्फे्रसिंग के माध्यम से विभागीय योजनाओं की प्रगति की समीक्षा करने के उपरान्त दिये। उन्होने कहा कि ग्राम पंचायतो में कराये जा रहे विकास एवं निर्माण कार्य सही ढंग से कराया जाये। उन्होंने कहा कि सामुदायिक शौचालय निर्माण व पंचायत भवन के निर्माण कार्य मानक एवं गुणवत्तापूर्ण ढंग से कराया जाए, इसका विशेष ध्यान रखा जाए। उन्होने कहा कि जिन सामुदायिक शौचालयों का निर्माण कार्य पूरी तरह पूर्ण हो गया है, उन सामुदायिक शौचालयों को महिला स्वयं सहायता समूहों को रख-रखाव हेतु शीघ्र ही दे दिये जाएं। उन्होने प्रदेश के सभी मुख्य विकास अधिकारियों को निर्देशित किया है कि वह जनपदों में समस्त निर्माण कार्यो का स्वयं निरीक्षण करें तथा अपूर्ण निर्माण कार्यों को नियमानुसार कार्यवाही करते हुए पूर्ण कराना सुनिश्चित किया जाये। इसके साथ ही क्षेत्र का भ्रमण कर ग्राम पंचायतो में कराये जा रहे कार्यों का अवलोकन अवश्य करना सुनिश्चित करें।
निदेशक पंचायतीराज श्रीमती किंजल सिंह ने कहा कि सभी मानदेय कर्मियों का नियमित रूप से भुगतान किया जाना सुनिश्चित किया जाये। उन्हांेने विभागीय अधिकारियों से यह भी कहा कि पी0आई0जी0एफ0 की धनराशि व्यय करते हुए शीध्र ही उपभोग प्रमाण पत्र निदेशालय को प्रेषित किया जाये।
इस अवसर पर बैठक में संयुक्त निदेशक पंचायतीराज श्री ए0के0सिंह, उप निदेशक पंचायत श्रीमती प्रवीणा चैधरी, श्री योगेन्द्र कटियार, श्री योगेश कुमार सहित अन्य सम्बधित अधिकारी उपस्थित थे।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि