खेतों की सिंचाई को अठारह घण्टे मिले निर्बाद्ध विद्युतापूर्ति : तिलक यादव

समाजवादी पार्टी ने जमीनी समस्याओं के निस्तारण को लेकर डीएम को सौंपा ज्ञापन
समस्याओं के निसतारण न होने पर दी आंदोलन करने की चेतावनी



ललितपुर। रबी फसल में अच्छी पैदावार के लिए किसानों को इस समय पानी की आवश्यकता है। पानी आपूर्ति के लिए सिंचाई संसाधन संचालन के लिए विद्युत की आवश्यकता है। लेकिन अघोषित कटौती व लो-वोल्टेज के चलते किसानों को फसल में पानी देने के लिए भारी मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा है। साथ ही किसान अन्य समस्याओं से भी ग्रसित है। इन सभी समस्याओं के स्थानीय स्तर पर निस्तारण किये जाने की मांग को लेकर समाजवादी पार्टी ने जिलाध्यक्ष तिलक यादव एड. के नेतृत्व में जिलाधिकारी अन्नावि दिनेशकुमार को एक ज्ञापन सौंपा है।
 ज्ञापन में बताया कि इस समय किसानों को खरीफ की फसल खराब होने के चलते अत्यन्त ही दयनीय स्थिति व आर्थिक तंगी के दौर से गुजर रहा है। वहीं विद्युत की अघोषित कटौती से समय पर फसलों की सिंचाई न कर पाने के कारण बैंक व साहूकारों से कर्ज लेकर किसी प्रकार बोई गई फसलों के नष्ट होने के खतरे से किसान भयभीत है। इसके अलावा माताटीला बांध के डूब क्षेत्र में बेमौसम जलस्तर बढ़ाये जाने से किसानों द्वारा बोई गयी फसलों के डूबने से नष्ट होने का खतरा बढ़ रहा है। सपाईयों ने बताया कि बीमा कम्पनी की ओरियेंटल बैंक शाखा के द्वारा किसानों के बीमाधन का भुगतान न करने से किसान खाद, बीज, डीजल खरीदने के लिए आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ रहा है। इसके अलावा जनपद में माताटीला जल विद्युत, बुरागांव पावर प्लांट एवं सौर ऊर्जा सहित विद्युत उत्पादन के अनेक संसाधन उपलब्ध होते हुये भी विद्युत की अघोषित कटोती की जा रही, जिससे किसानों की बोई हुयी फसलें नष्ट होने की कगार पर हैं। उन्होंने कहा कि एक तरफ किसान आर्थिक तंगी के दौर से गुजर रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ सीजनल कनेक्शन के रेट बढ़ा दिये गये जिन्हें तत्काल वापिस लिया जाये। मांग करते हुये कहा कि समाजवादी पार्टी किसान हित में रोस्टर निर्धारित करते हुये 18 घंटे विद्युत आपूर्ति देने सहित उपरोक्त अन्य बिंदुओं पर अविलम्ब व्यवस्थायें सुनिश्चित करने की आवश्यकता है। सपाईयों ने जल्द समस्याओं के निस्तारण न होने पर आंदोलन किये जाने की चेतावनी दी। इस दौरान पूर्व विधायक रमेश कुशवाहा, पूर्व विधायक फेरनलाल अहिरवार, ब्लाक प्रमुख कैलाश सिंह, जिला महासचिव कृष्णस्वरूप निरंजन, ज्योति सिंह, अजीज कुरैशी, जीतू सरदार, रमेश सिंह, अमर सिंह भैरा, मानसिंह एड., रामदास श्रोतीय, अशोक अहिरवार, इंजी. हृदेश मुखिया, आशीष अहारिया, रोहित, गीता मिश्रा, सुरेंद्र पाल सिंह, शाकिर अली, नीलेश झा, प्रभु, जयपाल सिंह, नीतेश विश्वकर्मा, करन पटेल बुदनी, राजेन्द्र सिंह, भज्जू पंचौरा, अनिल अहिरवार, डा.सुनील, पुष्पेन्द्र सिंह, पंकज यादव, यादवेन्द्र, पंकज श्रीवास, साहिल, भानु सिंह, सौरभ राजवंश, अभिषेक श्रीवास, मयंक नामदेव, अंकित राजपूत आदि मौजूद रहे।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या