मदरसों में खेल संस्कृति के विकास हेतु अधिकारियों को दिए गए कार्ययोजना तैयार करने के निर्देश -नंद गोपाल गुप्ता ‘नंदी’

लखनऊः दिनांक 18 नवम्बर, 2020
उत्तर प्रदेश के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री श्री नंदगोपाल गुप्ता ‘नंदी’ ने कहा है कि प्रदेश के सभी मदरसों में खेल कार्यक्रमों को बढ़ावा दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि जनपद में स्थित प्रत्येक मदरसे में खेल विकास एवं प्रोत्साहन समिति का गठन किया जाएगा, जिसमें खेलों में रूचि रखने वाले प्रबन्ध समिति के सदस्य, मदरसा शिक्षक, शिक्षणेत्तर कर्मचारी, मदरसों में पढ़ने वाले छात्र/छात्राओं के अभिभावकों और वरिष्ठ छात्रों को रखा जाएगा। इससे मदरसों में खेल संस्तुति के विकास को मदद मिलेगी।
श्री नंदी ने यह जानकारी देते हुए आज यहाँ कहा कि इस संबंध में उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा परिषद के माध्यम से उप-निदेशक, मण्डलीय अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी तथा जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये गए हैं। उन्होंने कहा कि इन अधिकारियों को यह भी निर्देशित किया गया है कि कक्षा 6 से 8 तक के बच्चों के लिए खेल के मानक की जानकारी प्रदान करते हुए स्कूल/तहसील/जिला/मंडल/राज्य स्तर पर खेल प्रतियोगिताओं का आयोजन ‘‘उत्तर प्रदेश खेल विकास एवं प्रोत्साहन नियमावली 2020’’ की समय सारणी के अनुसार किया जाए। पैरा गेम्स का आयोजन ‘‘एक जिला एक खेल’’ के तहत जानकारी देकर खेल चयन किया जाए। सभी प्राथमिक/माध्यमिक/मदरसों/अन्य शिक्षण संस्थानों में खेल के मानक एवं खेल हेतु आवश्यक शारीरिक फिटनेस के मानकों के फ्लैक्स बोर्ड लगाए जाएं। प्रत्येक प्राथमिक/जूनियर/ माध्यमिक/उच्च शिक्षण संस्थाएं अपने कोचेज एवं खिलाड़ियों का रजिस्ट्रेशन ‘‘खेलो इंडिया ऐप’’ पर करायें, कितने खिलाड़ियों /कोचों का ‘‘खेलो इंडिया ऐप’’ पर रजिस्ट्रेशन कराया गया। इसकी सूचना भी प्रत्येक माह की पहली तारीख को मदरसा शिक्षा परिषद को दी जाए।
अल्पसंख्यक मंत्री ने कहा कि मदरसों में खेल गतिविधियों का प्रचार-प्रसार तथा विभिन्न खेल प्रतियोगिताओं में भागीदारी, ‘‘खेलो इण्डिया एैप’’ का प्रचार-प्रसार व्यापक रूप से किया जाए। उन्होंने कहा कि खेलों इण्डिया एैप पर खेलों में रूचि रखने वाले शिक्षकों का पंजीकरण इत्यादि कार्यवाही प्राथमिकता पर भी की जाए। उन्होंने कहा कि मदरसों में खेल संस्कृति के विकास व प्रचार-प्रसार हेतु एक कार्ययोजना भी बनाने के निर्देश अधिकारियों को जारी किये गये हैं।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि