पारंपरिक कारीगरों द्वारा निर्मित लक्ष्मी-गणेश मूर्तियां और तरह-तरह के डिजाइनर दीये होंगे आकर्षण का केन्द्र -डा0 नवनीत सहगल

खादी भवन में 05 नवम्बर से 10 दिवसीय माटीकला मेले का आयोजन
   
मेले में उत्कृष्ट शिल्पकारों द्वारा निर्मित माटीकला उत्पादों का होगा लाइव प्रदर्शन


 लखनऊ: 02 नवम्बर, 2020
      उ0प्र0 माटी कला बोर्ड द्वारा दीपावली के अवसर पर माटीकला शिल्पकारों के उत्पादों की बिक्री को बढ़ाने के लिए आगामी 05 से 14 नवम्बर तक 10 दिवसीय माटीकला मेले का आयोजन किया जायेगा। डालीबाग स्थित खादी भवन में आयोजित होने वाले इस भव्य मेले में विभिन्न जनपदों के उत्कृष्ट शिल्पकारों द्वारा निर्मित माटीकला उत्पादों का क्रियात्मक (लाइव) प्रदर्शन भी किया जायेगा। मेले का मुख्य उद्देश्य दूर-दराज के हस्तशिल्पियों की उत्कृष्ट कलाकृतियों को एक मंच पर लाकर बड़ा बाजार मुहैया कराना है।
      यह जानकारी अपर मुख्य सचिव, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम डा0 नवनीत सहगल ने आज यहां दी। उन्होंने बताया कि मेले में गोरखपुर के टोराकोटा, आजमगढ़ की ब्लैक पाॅटरी, खुर्जा के मिट्टी के बर्तन सहित लखनऊ, कुशीनगर, मिर्जापुर, चंदौली, उन्नाव, बलिया, कानपुर, पीलीभीत, प्रयागराज, वाराणसी और अयोध्या के मिट्टी से बने खास उत्पाद उपलब्ध होंगे। उन्होंने बताया कि दीवाली से पूर्व इस मेले में पारंपरिक कारीगरों द्वारा निर्मित लक्ष्मी-गणेश मूर्तियां और तरह-तरह के डिजाइनर दीये प्रमुख आकर्षण होंगे।  
      डा0 सहगल ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के निर्देश पर इस बार की दीवाली में उत्कृष्ट श्रेणी के स्वदेशी लक्ष्मी-गणेश की मूर्तियां तैयार करने हेतु कारीगरों को पी0ओ0पी0 मास्टर डाई, स्प्रे-पेंटिंग मशीन, पगमिल, आधुनिक भट्ठी एवं दीया मेकिंग मशीनें निःशुल्क शिल्पकारों को उपलब्ध कराई गई है। इसके साथ ही कारीगरों को उनके गांव एवं घर में विशेषज्ञों के माध्यम निःशुल्क प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि इन प्रयासों के फलस्वरूप पारंपरिक कला से जुड़े लोगों के रोजगार में वृद्धि हो रही है और इस दीपावली पर्व पर लोगों को स्वदेशी मिट्टी के बने लक्ष्मी-गणेश की मूर्तियां उचित मूल्य पर उपलब्ध होंगी। उन्होंने बताया मेले में हिस्सा लेने वाले कारीगरों को निःशुल्क बिक्री हेतु स्टाल एवं आवास भी उपलब्ध कराये जायेंगे।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

होमियोपैथी कोरोना के नए वैरीअंट के खिलाफ महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है-डॉ एम डी सिंह