प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना का लाभ अब 30 नवंबर तक ही जाने योजना उठाये लाभ

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (Pradhan Mantri Gareeb Kalyan Ann Yojna) की अंतिम तारीख नजदीक आ रही है. कोरोना महामारी के दौर में मार्च माह में सरकार ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज के हिस्से के रूप में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना का ऐलान किया था. गरीब परिवारों को राहत देने के लिए प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत सरकार ने 80 करोड़ से अधिक राशनकार्ड धारकों को अप्रैल, मई और जून के लिए राशन कार्ड में दर्ज सदस्यों के आधार पर प्रति व्यक्ति पांच किलो अनाज (गेहूं अथवा चावल) और प्रति परिवार एक किलो दाल मुफ्त देने की घोषणा की थी. यह मुफ्त 5 किलो अनाज, राशन कार्ड पर मिलने वाले अनाज के मौजूदा कोटे के अतिरिक्त है.


इसके बाद इसे (प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना) का विस्तार दिवाली और छठ पूजा तक कर दिया गया यानी 30 नवंबर 2020 तक इस योजना का फायदा उठाया जा सकता है.


30 नवंबर तक देश के करीब 80 करोड़ गरीब लोगों को पांच किलो मुफ्त अनाज उपलब्ध कराया जाएगा. इसके तहत अनाज के मौजूदा कोटे के अतिरिक्त प्रति व्यक्ति 5 किलो गेहूं या चावल और प्रति परिवार 1 किलो चना दाल मुफ्त मिल रहा है.


आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यह योजना जून 2020 के अंत में समाप्त होने वाली थी, मगर देश के दस राज्यों ने केंद्रीय खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय से योजना की समयसीमा बढ़ाने का अनुरोध किया था. इसलिए ये प्रस्ताव प्रधानमंत्री को भेजा गया. इसके बाद में कैबिनेट ने इस प्रस्ताव पर मुहर लग गई.


बिना राशन कार्ड के भी उठा सकते हैं इस स्कीम का फायदा - पीएमजीकेएवाई के तहत अनाज लेने के लिए आपको राशन कार्ड की जरूरत नहीं है. बल्कि केवल आधार से ही जरूरतमंदों को राशन मिलता है. लेकिन अपने आधार कार्ड के जरिए इस योजना के लिए पंजीकरण कराना होगा. पंजीकरण पर उन्हें एक स्लिप मिलती है. जिसे दिखा कर मुफ्त अनाज हासिल किया जा सकता है. योजना के तहत 5 किलो गेहूं/चावल और 1 किलो चना मुफ्त दिया जा रहा है. 


प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के विस्तार पर सरकार ने कुल 90,000 करोड़ रुपये से ज्यादा खर्च का ऐलान किया है. साथ ही, इस स्कीम पर कुल खर्च करीब 1.50 लाख करोड़ रुपये हो जाएगा.


इसके अतिरिक्त राशन कार्ड धारक पहले से मिल रहे मौजूदा कोटे का प्रति व्यक्ति 5 किलो गेहूं या चावल पैसे देकर राशन दुकान से ले सकते हैं. इस तरह 30 नवंबर 2020 तक महीने में प्रति व्यक्ति कुल 10 किलो अनाज लाभार्थी राशन दुकानों से लिया जा सकता है.


सरकार की ओर से मार्च माह में कहा गया था कि गेहूं की कीमत 27 रुपये किलो है, जो राशन दुकानों के माध्यम से दो रुपये किलो की रियायती दर पर मिलेगा. चावल की लागत लगभग 37 रुपये किलो है, लेकिन राशन की दुकानों के माध्यम से इसे तीन रुपये किलो की दर से खरीदा जा सकेगा.


जागरूकता के लिए शेयर अवश्य करें


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा

मंगलमय हो मिलन तुम्हारा

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?