कुछ नेकी की होगी...

कुछ नेकी की होगी... वो भला है उसने कुछ नेकी की होगी उसे सब पता है कुछ रेकी की होगी ऐसे ही नहीं हुनर आया है उसमें उसने कुछ गति देखा-देखी की होगी उसको भी उन्मुक्त गगन पसंद होगा लेकिन उसने कुछ अनदेखी की होगी वो तो नदी सा अनवरत बहता है उसकी आदत सुधा-सरेखी की होगी उसका मकान कुछ अलग दिखता है उसने घर के बाहर कोई टेकी की होगी कोई भी अल्फाज़ ले लेते हो "उड़ता" कहाँ से और कैसे किताब-सेकी की होगी. सुरेंद्र सैनी बवानीवाल "उड़ता

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या