सत्ता की जगह राष्ट्रनीति पर काम करने के लिए प्रतिबद्ध रहे अटल जी :शमीम आलम, मंत्री उत्तराखण्ड

लखनऊ। भारत के पूर्व प्रधानमंत्री एवं सुप्रसिद्ध कवि,“राष्ट्र धर्म" के पूर्व संपादक, भारत रत्न श्री अटल बिहारी बाजपेयी जी के जन्मदिन के अवसर पर पत्रकार संगठन प्रिंट मीडिया वर्किंग जर्नालिस्ट एसोसिएशन द्वारा संगोष्ठी का आयोजन दीनदयाल उपाध्याय भवन, सूचना विभाग राजभवन चौराहा, हजरतगंज,लखनऊ में किया गया। कार्यक्रम का शुभारम्भ मुख्य अतिथि श्री शमीम आलम, मुस्लिम व हजमंत्री उत्तराखण्ड सरकार ने दीप प्रज्वलित कर किया। इस अवसर पर अब्दुल अजीज सिद्दीकी राष्ट्रीय अध्यक्ष, पीएमडब्लूजेए ने मुख्य अतिथि श्री शमीम आलम, मुस्लिम व हजमंत्री उत्तराखण्ड सरकार का बुके देकर स्वागत किया। संगठन के संदर्भ में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सुरेन्द्र अग्निहोत्री ने प्रकाश डाला।
कार्यक्रम में समाजसेवी तथा रचनाकारों को अटल सम्मान से सम्मानित किया गया। सम्मानित होने वाली विभूतियां में नरेन्द्र भूषण वरिष्ठ कवि, डॉ मालविका हरिओम गजलकार/कवयित्री, अलका अस्थाना गीतकार , गोबर गणेश हास्य कवयित्री, मनोज अग्रवाल सम्पत्ति कुमार मिश्र भ्रमर बैसवारी वरिष्ठ कवि, गोबर गणेश हास्य कवि, बेअदब लखनवी हास्य कवि, विजय लक्ष्मी कवयित्री, हरि प्रकाश हरि ओज कवि, प्रतिभा गुप्ता कवयित्री, नीतू गुप्ता शायरा/कवयित्री, मनोज अग्रवाल गुमनामी कवि, सीमा गुप्ता कवयित्री, धीर सुप्रिया श्रीवास्तव कवयित्री, कवि वाहिद अली “वाहिद", कवि आमिर मुख्तार, समाजसेवी मुरलीधर आहूजा, समाजसेवी इमरान कुरैशी, समाजसेवी पदम जैन, समाजसेवी मोनी मिश्रा, प्रख्यात लेखक डा. शाकिर हाशमी, लेखिका वैशाली शर्मा, कवयित्री संतोषी दीक्षित आदि प्रमुख थे। कार्यक्रम में श्री शमीम आलम, मुस्लिम व हजमंत्री उत्तराखण्ड सरकार ने बिचार व्यक्त करते हुए कहा पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी ने अपनी वाणी के जादू से दुनियाँ भर में भारत का नाम रोशन किया। सत्ता की जगह राष्ट्रनीति पर काम करने के लिए प्रतिबद्ध रहे, इसीलिए जब राष्ट्र संघ में भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिए तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने अनुरोध किया तो उन्होंने यूएनओ में भारत का डंका बजा दिया। दूर दृष्टि,युग प्रवर्तक महामानव अटलविहारी बाजपेयी ने हिंदी को वैश्विक भाषा बनाने की पहल सत्तर के दशक में ही संयुक्त राष्ट्र संघ में हिंदी में भाषण देकर कर दी थी।
अटल जयंती के अवसर पर आयोजित इस ' कवि सम्मेलन' में कार्यक्रम को सफल बनाने में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सुरेन्द्र अग्निहोत्री, शेखर पंडित राष्ट्रीय सचिव, मुश्ताक बेग, सुरेश द्विवेदी, सुभाष चन्द्र यादव, राष्ट्रीय सलाहकार, प्रेम शंकर अवस्थी, विजय निगम, कौसर जहाँ, राष्ट्रीय संगठन मंत्री, इस्लाम खान, प्रदेश अध्यक्ष, अनवर आलम का विशेष सहयोग रहा।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या