नियम आधारित व्‍यवस्‍था, समुद्री सुरक्षा, साइबर संबंधी अपराधों और आतंकवाद के प्रति चुनौतियों के समाधान की जरूरत है : श्री राजनाथ सिंह

रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह नेएडीएमएमप्लस की 10वीं वर्षगांठ पर 10 दिसम्‍बर, 2020 को वियतनाम के हनोई में ऑनलाइन आयोजित 14वें आसियान रक्षा मंत्रियों की बैठक प्लस में हिस्‍सा लिया। एडीएमएम प्लस 10 आसियान देशों और आठ साझेदार देशों के रक्षा मंत्रियों की एक वार्षिक बैठक है। यह वर्ष एडीएमएमप्लस फोरम की स्थापना का 10वां वर्ष है। एक विशेष स्मारक 10वीं वर्षगांठ समारोह का आयोजन किया गया था, जिसमें वियतनाम के समाजवादी गणराज्य के प्रधानमंत्री श्री गुयेन जुआन फुच ने भाग लिया और रक्षा मंत्रीको विशेष सत्र में उत्सव सत्र को संबोधित करने का विशेषाधिकार दिया गया, जिसमें मंच द्वारा भारत को विशेषमहत्‍वदिया गया। अपने संबोधन के दौरान, श्री राजनाथ सिंह ने एशिया में एक बहुलवादी, सहकारी सुरक्षा व्‍यवस्‍था के लिए बातचीत और सामंजस्‍य को बढ़ावा देने में आसियान- केन्द्रित मंच की महत्वपूर्ण भूमिका के बारे में चर्चा की। उन्होंने रणनीतिक संवाद और व्यावहारिक सुरक्षा कार्यक्रमों के माध्यम से बहुपक्षीय सहयोग को आगे बढ़ाने में पिछले एक दशक में एडीएमएम प्लस की सामूहिक उपलब्धियों पर प्रकाश डाला। उन्होंने समुद्री सुरक्षा, मानवीय सहायता और आपदा राहत, आतंकवाद निरोध और शांति रक्षा अभियानों सहित प्रमुख क्षेत्रों में सर्वोत्तम प्रचलनों को साझा करने में सात विशेषज्ञ कार्य समूहों की उपलब्धियों की सराहना की। रक्षा मंत्री ने क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय सुरक्षा पर्यावरण पर एडीएमएम प्लस बैठक के दौरान विषयगत चर्चाओं को भी संबोधित किया, जहां उन्होंने भारत के परिप्रेक्ष्य को प्रस्तुत किया। उन्होंने कहा कि भारत-प्रशांत क्षेत्र विशेष रूप से कई पारंपरिक और गैर-पारंपरिक सुरक्षा खतरों का सामना करता है। श्री राजनाथ सिंह ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा पिछले साल के पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन में इंडो-पैसिफिक ओशन इनिशिएटिव (आईपीओआई) के शुभारंभ को याद किया और कहा कि आईपीओआईएक खुली वैश्विक पहल है, जो मौजूदा क्षेत्रीय विकास के ढांचे और तंत्र को तैयार करती है। उन्होंने भारत-प्रशांत पर भारत के आईपीओआईऔर आसियान आउटलुक के बीच समानता के बारे में चर्चा की, क्‍योंकि दोनों सहयोग के अवसर हैं। आसियान सदस्य देशों, अमेरिका, रूस, चीन, जापान, दक्षिण कोरिया, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के रक्षा मंत्रियों को संबोधित करते हुए अपने भाषण में, रक्षा मंत्री ने भारत-प्रशांत क्षेत्र में क्षेत्रीय और क्षेत्रीय सम्मान के लिए भारत-प्रशांत क्षेत्र में एक खुला और समावेशी व्‍यवस्‍था कायम करने, देशों की अखंडता, बातचीत के माध्यम से विवादों का शांतिपूर्ण समाधान और अंतर्राष्ट्रीय नियमों और कानूनों का पालन पर जोर दिया। उन्होंने समुद्री कानून पर संयुक्त राष्ट्र के कन्वेंशन (यूएनसीएलओएस) के अनुसार अंतर्राष्ट्रीय जल में सभी के लिए नेविगेशन की स्वतंत्रता और अधिक उड़ान के लिए भारत के समर्थन को दोहराया। श्री राजनाथ सिंह ने गतिविधियों में संयम के आधार पर आपसी विश्वास और उसके महत्व के साथ-साथऐसे क्रियाकलापोंके बारे में चर्चा की,जो क्षेत्र में स्थिति को और जटिल बना सकते हैं। रक्षा मंत्री ने कहा कि क्षेत्र और दुनिया के लिए आतंकवाद एक बड़ा संकट है। उन्होंने कहा कि भारत के पड़ोस सहित आतंकवाद को समर्थन देने और उसे बनाए रखने वाली संरचनाएं मौजूद हैं। उन्होंने संयुक्त रूप से और दृढ़ता से आतंकवाद से लड़ने के लिए मजबूत प्रतिबद्धता और अंतर्राष्ट्रीय तंत्र को मजबूत करने की आवश्यकता जताई। श्री राजनाथ सिंह ने कोविड-19 द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों के बावजूद एडीएमएमप्लस सहित आसियान से संबंधित रक्षा कार्यक्रमों के उत्कृष्ट संचालन के लिए वियतनाम को धन्यवाद दिया। उन्होंने ब्रुनेई दारुस्सलाम का नए अध्यक्ष के रूप में भी स्वागत किया और 2021 में उनके सफल आयोजन के लिए शुभकामनाएं दीं। ***

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या