देव दीपावली पर दियों की रौशनी से जगमग हुआ सुम्मेरा तालाब






 

* जागरूकता अभियान ने आयोजित किया शानदार कार्यक्रम


 

ललितपुर। 

देव दीपावली कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर पुन: सुम्मेरा तालाब को दीपों से सजाया गया। ललितपुर जागरूकता अभियान के तत्वाधान में आयोजित इस कार्यक्रम में दीपों के माध्यम से पूरा तालाब जगमग हो गया। दीपों से सजे हुए घाट सभी को मंत्रमुग्ध कर रहे थे, तालाब पर उपस्थित जनमानस, भक्तगण सभी इस विहंगम दृश्य को अपनी पलकों और कैमरे में कैद करते हुए दिखे। 

ज्ञात है कि हमारा सुम्मेरा तालाब शहर की ऐतिहासिक और धार्मिक धरोहर है। ललितपुर जागरूकता अभियान के सदस्य पिछले पांच वर्षों से तालाब के घाटों पर लगातार श्रमदान करता आ रहा और तालाब पर विभिन्न आयोजन भी करता आ रहा है। इसी क्रम में पिछले पांच वर्ष पहले देव दीपावली कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर तालाब के घाटों को दीपों के माध्यम से सजाना आरम्भ किया और अब इस समय का इंतजार सभी नगर वासी करते हैं कि कब देव दीपावली आये और हम इस विहंगम दर्शय को देख पाये। राष्ट्रपति पुरुष्कार से सम्मानित रिटायर्ड अध्यापक रूपनारायण निरंजन ने बताया कि तालाब का इतिहास काफी पुराना है, और कहा जाता है कि तालाब का पानी इतना मधुर था कि पानी मे डुबकी लगाने से त्वचा सम्बन्धी रोग समाप्त हो जाता था। उन्होंने कहा कि हम सभी को तालाब के महत्व को समझना होगा और इन जलीय धरोहरों को हम सभी को संरक्षित रखने बहुत जरूरत है। अभियान की अध्यक्षा अर्चना.बी.के.अग्रवाल ने बताया कि इस वर्ष कोरोना गाइड लाइन को मद्देनजर रखते हुए ललितपुर जागरूकता अभियान के सदस्यों ने पूर्ण सोशल डिस्टेंसिंग का अनुपालन करते हुए सुम्मेरा के घाटों को दीप प्रज्जवलित कर उन्हें रोशन किया। इस बार का दीपोत्सव सिर्फ सुम्मेरा के लिए न होकर देश के समस्त कोरोना वारियर्स के लिए भी था। जिनकी अनथक मेहनत से हमारे देश की कोरोना से जंग सकारात्मक दिशा की ओर है। एक रोशन घाट सिर्फ उन्हीं कोरोना वारियर्स को समर्पित किया गया। अंत में उपस्थितजनों संग सभी सदस्यों ने सुम्मेरा आरती कर समस्त पूज्य जलीय धरोहरों का आभार व्यक्त किया जिनकी वजह से हमारी पृथ्वी में इतना खूबसूरत जीवन है। 

इस दौरान रामशरण अग्रवाल, भारत विकास परिषद से डा.संजीव कडं़की, सुबोध सारस्वत गोस्वामी, डा.राजकुमार जैन, कुमार नुना,  मनोज खटीक, सानू भाई, अभियान के संरक्षक बीके अग्रवाल, इंजीनियर श्रीवास्तव, दीपाली अग्रवाल, अर्चना बी.के.अग्रवाल, उमेश सेन, इमरत लाल, देवन्द्र सेन, दर्शन सेन, रोशन सिंह, मन नापित, अमित भारद्वाज, सचिन, आशीष पंथ आदि लोग उपस्थित रहे व अंत मे उपस्थित सभी अगन्तुओं का अभियान के संरक्षक बी.के.अग्रवाल ने आभार व्यक्त किया।


 

 




 

 



 



 



इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या