हाथरस, मंगटा गांव कानपुर, ललितपुर, आजमगढ़ दलित उत्पीड़न की घटनाएं बेहद निंदनीय- प्रियंका गांधी


लखनऊ 04 दिसम्बर।
उ0प्र0 कांग्रेस अनुसूचित जाति विभाग द्वारा प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में आयोजित ‘दलित महापंचायत’ को अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की महासचिव एवं प्रभारी उ0प्र0 श्रीमती प्रियंका गांधी जी ने वीडियो कान्फ्रेसिंग के जरिए सम्बोधित किया। उ0प्र0 कांग्रेस अनुसूचित जाति विभाग के चेयरमैन श्री आलोक प्रसाद की रिहाई के बाद प्रदेश भर में दलितों की आवाज को बुलन्द करने के लिए दलित महापंचायत बुलाई गयी थी। महापंचायत में श्रीमती गांधी ने अनु0जाति विभाग के कार्यकर्ताओं की प्रशंसा की। उन्होने कहा कि आने वाले समय में सामाजिक न्याय, संविधान व दलित छात्रों की छात्रवृत्ति बचाने एवं दलितों पर हो रहे अत्याचार के खिलाफ लड़ाई लड़ते हुए प्रत्येक गांव में अनु0जाति विभाग के कार्यकर्ताओं को बनाना है।

दलित महापंचायत को वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए सम्बोधित करते हुए श्रीमती प्रियंका गांधी ने सबसे पहले बाबा साहब डाॅ0 भीमराव अम्बेडकर, महात्मा ज्योतिबा राव फुले, संत गाडगे को नमन, वंदन करते हुए दलित महापंचायत में आये प्रतिनिधियों का स्वागत करते हुए उन्हें धन्यवाद दिया कि वह इतनी बड़ी तादाद में आये। उन्होने दलित विभाग की प्रसंशा करते हुए कहा कि दलित कांग्रेस जोरदार काम कर रही है। उन्होने मौजूदा दौर में उ0प्र0 में दलितों पर निरन्तर होने वाले अत्याचार, उत्पीड़न की घटनाओं पर दुःख व्यक्त किया। साथ ही साथ उन्होने कहा कि दलित समुदाय निरन्तर विरोध और प्रतिरोध के स्वर बुलन्द कर रहे हैं। उन्होने हाथरस की घटना का जिक्र करते हुए कहा कि योगी सरकार उस घटना के बाद भी कोई सुधार करने के बजाए पीड़ितों को न्याय दिलाने के बजाए पीड़ितों पर अत्याचार करने में जुटी है और उन्हें ही कटघरे में खड़ा कर रही है। उन्होने मंगटा गांव कानपुर, ललितपुर, आजमगढ़ आदि जनपदों में दलितों पर हुए अत्याचार, उत्पीड़न का जिक्र किया। उन्होने कहा कि उ0प्र0 कांग्रेस अनु0जाति विभाग के चेयरमैन श्री आलोक प्रसाद को इसी वजह से जेल में डाला गया। उन्होने कार्यकर्ताओं से कहा कि आपके सामने बड़ी ऐतिहासिक जिम्मेदारी है। आप लोगों के साथ खड़े होकर अपनी आवाज बुलन्द कीजिए।

राष्ट्रीय महासचिव एवं उ0प्र0 प्रभारी श्रीमती प्रियंका गांधी जी ने कहा कि अभी मैं अम्बेडकर छात्रावास के छात्रों से बात कर रही थी। छात्र आहत और दुखी हैं। क्योंकि सरकार उनके छात्रावासों को बन्द कर देना चाहती है। आप सब मिलकर ऐसा निर्णय लें कि आपका समुदाय आगे बढ़े। मुझे खुशी है कि आप सब यहां आये और अपनी एकजुटता जाहिर की।

प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में अनु0जाति विभाग उ0प्र0 कांग्रेस कमेटी के चेयरमैन श्री आलोक प्रसाद की अध्यक्षता में आयोजित दलित महापंचायत को सम्बोधित करते हुए अपने अध्यक्षीय सम्बोधन में श्री आलोक प्रसाद ने कहा कि यूपी में कोई भी जिला ऐसा बाकी नहीं रहा जहां दलितों को प्रताड़ित कर उत्पीड़न न किया जा रहा हो। घरों और जमीनों पर कब्जा किया जा रहा है। दलित महापंचायत का मुख्य लक्ष्य सोई हुई योगी सरकार को नींद से जगाना है। क्योंकि दलितों पर हो रहे निरन्तर अत्यधिक अत्याचार उन्हें दिखाई नहीं दे रहा है। हम सड़कों पर आन्दोलित रहेंगे जब तक दलित उत्पीड़न बन्द नहीं हो जाता। दलितों के स्वाभिमान, सम्मान और बहन, बेटियों पर हो रहे उत्याचार को रोकने के लिए सड़कों पर उतरने की आवश्यकता है। अन्त में उन्होने कहा कि दलितों पर होने वाले अत्याचार, उत्पीड़न के खिलाफ हमें जोरदार तरीके से अपनी आवाज बुलन्द करनी है और कांग्रेस अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी जी, कांग्रेस महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी जी, श्री राहुल गांधी जी का संदेश जन-जन तक पहुंचाना ही इस महापंचायत का उद्देश्य है।

दलित महापंचायत को सम्बोधित करते हुए अ0भा0 अनु0जाति विभाग के उ0प्र0 के प्रभारी श्री प्रदीप नरवाल ने कहा कि हमारे नेता राहुल जी और प्रियंका जी दलितों के उत्पीड़न पर सबसे पहले सड़कों पर आते हैं और हमारे लिए लाठी, डण्डा खाते हैं। उनका मुख्य मकसद गरीब समाज के साथ खड़ा होना और न्याय दिलाना है। उन्होने विभिन्न जनपदों में हुई दलितों के साथ अन्याय और अत्याचार की घटनाओं का जिक्र करते हुए कहा कि चाहे समाजवादी पार्टी हो या बहुजन समाज पार्टी हो, यह दल सिर्फ दलित वोट के लिए ही राजनीति करते हैं। दलितों का वोट तो चाहते हैं मगर उनके अधिकार की लड़ाई नहीं लड़ते हैं। उन्होने कहा कि सभी कार्यकर्ताओं को एकजुट होकर हमें संविधान बचाने का संकल्प लेना होगा।

महापंचायत को सम्बोधित करते हुए विभाग के उपाध्यक्ष श्री तनुज पुनिया ने कहा कि संविधान एक विचारधारा है। जिस पर इस देश को चलना है। कांग्रेस पार्टी संविधान का सदैव सम्मान करती रही है लेकिन मौजूदा तानाशाह भाजपा सरकार संविधान को खत्म करने पर अमादा है। हम सभी लोगों को दलितों के अधिकार दिलाने और उनके विरूद्ध हो रहे अत्याचार, अन्याय के खिलाफ एकजुट होकर आवाज बुलन्द करना है।

दलित महापंचायत को मुख्य रूप से पूर्व विधायक श्री राम सजीवन निर्मल, श्री तरूण रावत, श्री रामकुमार कनौजिया, श्री अनूप श्रमिक, श्री कैलाश बाल्मीकि, श्री संतराम नीलांचल, श्री संतोष कटाई, श्री पंकज मोहन, श्रीमती सिद्धिश्री, श्री सुशील बाल्मीकि, श्री विषम सिंह, श्री कामेश रतन, श्री अमित गौतम, श्री अनुराग बाल्मीकि, श्रीमती रेनू गौतम आदि ने भी सम्बोधित किया।
दलित महापंचायत में अनु0जाति विभाग के सभी पदाधिकारी, जिला एवं शहर अध्यक्ष     सहित प्रदेश भर के कोने-कोने से आये हजारों की संख्या में दलित प्रतिनिधि मौजूद रहे।

पूरा हाल खचाखच भरा होने के चलते बाहर बैठे लोगों को स्क्रीन लगाकर वीडियो कांफ्रेन्सिंग के जरिए प्रियंका जी का लाॅइव सम्बोधन दिखाया गया।

दलित महापंचायत का संचालन अनु0जाति विभाग के संगठन सचिव श्री संदीप सिंह ने किया।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या