पाचन अंगो और क्रिया का शत्रु है मैदा जानिये मैदा के बने खाद्य पदार्थ क्यों नहीं खाने चाहिऐ ?

पाचन अंगो और क्रिया का शत्रु है मैदा जानिये मैदा के बने खाद्य पदार्थ क्यों नहीं खाने चाहिऐ ?


Dr Rao P Singh


हमारा शरीर विभिन्न अंगो से मिलकर बना है उन सभी अंगो को क्रियाशील रखने के लिए भोजन आवश्यक है। यधपि भोजन के लिए प्रकृति ने पर्याप्त पदार्थ दिए है तथापि हम उनको सेवन ना कर एसी वस्तुओ के पीछे भागते है जो हमारे शरीर के लिए घातक है उन्ही में से एक है "मैदा" ये पदार्थ हमारे लिए क्यो विष है इसका कारण और परिणाम क्या है जानते है आगे ..


जानिये मैदे के दुष्प्रभाव


1.) जैसे ही मैदा से बने चीजें - समोसे, कचौरी, ब्रेड, पास्ता, बर्गर, पिज्जा, पाव, नूडल्स, नाॕन आदि खाते हैं, शरीर में शर्करा (शुगर) का लेवल बढ जाता है ( क्योंकि मैदा में ग्लाइसेमिक इंडेक्स ज्यादा होता है ) इसलिए अग्न्याशय (Pancreas) को पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन छोड़ने के लिए जरूरत से ज्यादा सक्रिय होना पड़ता है।  लेकिन मैदा का बहुत अधिक सेवन हो तो इंसुलिन का बनना धीरे-धीरे कम हो जाता है और डायबिटीज हो जाती है।


2.) मैदा में अलोक्जल केमिकल होता है जो अग्न्याशय (Pancreas) की इंसुलिन बनाने वाली बीटा कोशिकाओं को मारकर टाइप 2 डायबिटीज पैदा करता है|


3.) मैदा कब्ज करता है क्योंकि इसके कण बहुत ही बारीक हैं, डाइजेसिटिव जूस इसमें मिक्स ना होने से पूरा डाइजेसन नहीं हो पाता है |


4.) मैदा को ' सफेद जहर ' और ' आंत का गोंद ' भी कहते हैं|


5.) मैदा से बने ढेरों चीजें एसिडिटी बढाती हैं व इसको बेलेन्स करने के लिए हड्डियों से कैल्शियम सोख लेती है जिससे हड्डियां कमजोर हो जाती हैं और लम्बे समय तक इनके सेवन से स्थायी सूजन, गठिया आदि कष्टसाध्य बीमारियां हो जाती हैं|


6.) अधिक मात्रा में मैदे के सेवन से हानिकारक कोलेस्ट्रॉल (एलडीएल) का बढ़ जाता है । इसके कारण वजन बढ़ने, हाई ब्लड प्रेशर और चित्त में अस्थिरता (मूड स्विंग) की शिकायत हो जाती है।


7.) मैदा और इससे बनी चीजों का अधिक मात्रा में सेवन आपको मोटापे की ओर ले जाता है। इसके अलावा, इसके सेवन से आपको अधिक भूख महसूस होती है और मीठा खाने की तलब बढ़ जाती है।


8.) मैदा से एलर्जी भी हो सकती है क्योंकि इसमें ग्लूटेन भी ज्यादा होता है|


9.) मैदा और इससे बनी चीजें आंतों में चिपक जाते हैं। इसमें पोषक तत्व व फाइबर नहीं होता जिससे पाचन प्रक्रिया धीमी हो जाती है और फलस्वरूप मेटाबोलिज्म  सुस्त पड़ जाता है जिससे अपच की समस्या होने लगती है। इसके अलावा यह तनाव, सिरदर्द और माइग्रेनका कारण भी बन जाता है।
पीएम जन औषधि केंद्र से सिर्फ एक रुपये में खरीदें सैनिटरी नैपकिन


बायोडिग्रेडेबल सैनिटरी नैपकिन 'सुविधा' का चार नैपकिन का पैक पीएम जन औषधि केंद्रों पर सस्ती दर पर बिक्री के लिए उपलब्ध है.


केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र पर बिकने वाले सैनिटरी नैपकिन की कीमत ढाई रुपये से घटाकर एक रुपये प्रति पैड कर दिया है.


 महिला स्वच्छता को बढ़ावा देने के लिए यह कदम उठाया गया है.
मोदी सरकार को उम्मीद है कि सस्ती दर पर सैनिटरी नैपकिन उपलब्ध होने से महिलाओं में इसके इस्तेमाल को बढ़ावा दिया जा सकेगा और उनमें स्वच्छता की आदत बढ़ेगी. खास तौर पर मोदी सरकार ने ग्रामीण इलाके की महिलाओं को केन्द्रित कर यह अभियान शुरू किया है.


बायोडिग्रेडेबल सैनिटरी नैपकिन 'सुविधा' का चार नैपकिन का पैक पीएम जन औषधि केंद्रों पर सस्ती दर पर बिक्री के लिए उपलब्ध है.


केंद्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्री डी . वी सदानंद गौड़ा ने इस बारे में कहा, "मुझे लगता है कि यह देश के गरीब लोगों के लिए प्रधानमंत्री मोदी की ओर से हासिल की गई सबसे बड़ी उपलब्धियों में से एक है."  


उन्होंने कहा , "लोकसभा चुनाव 2019 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आश्वासन दिया था कि 100 दिनों में देश की गरीब महिलाओं को एक रुपये में सैनिटरी नैपकिन उपलब्ध कराई जाएगी. अब यह हकीकत में तब्दील हो गया है."
केंद्रीय रसायन एवं उर्वरक राज्य मंत्री मनसुख मांडविया ने कहा कि सरकार ने ओक्सो-बायोडिग्रेडेबल सैनिटरी नैपकिन एक रुपये में पेश किया है. सुविधा ब्रांड नाम से ये नैपकिन देशभर के 5,500 जन औपधि केंद्रों में उपलब्ध होंगे.


उन्होंने कहा कि महिलाओं का सशक्तिकरण मोदी सरकार की एक महत्वपूर्ण पहल है. मांडविया ने बताया, "पिछले एक साल के दौरान जन औषधि केंद्रों से करीब 2.2 करोड़ सैनिटरी नैपकिन की बिक्री की गई है. नैपकिन की कीमतों में कमी से बिक्री में दोगुना उछाल आने की उम्मीद है. हम गुणवत्ता, किफायत मूल्य और पहुंच पर ध्यान दे रहे हैं."


मोदी सरकार ने जन औषधि सुगम मोबाइल एप भी पेश किया है. इसकी मदद से उपयोगकर्ता नजदीकी जन औषधि केंद्रों का पता लगा सकते हैं और उस केंद्र पर कौन-कौनसी जेनेरिक दवाएं हैं, इसकी जानकारी कर सकते हैं


जागरूकता के लिए शेयर अवश्य करें


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या