शादी-ब्याह को खास बनाने वालों की सैम्पलिंग तेज

0 गेस्ट हाउस के स्टाफ और कैटर्स के दो दिन में 65 सैंपल लिए गए, सभी निगेटिव निकले

0 गुरुवार को बैंडबाजा और फूलों की सजावट करने वालों की होगी सैम्पलिंग

हमीरपुर, 02 दिसंबर 2020

कोविड-19 केसों में आ रही तेजी को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने शादी-ब्याह में अहम भूमिका निभाने वालों की सैम्पलिंग शुरू कराई है। तीन दिवसीय इस अभियान में दो दिन के अंदर 65 लोगों के सैंपल लिए गए हैं। अच्छी बात यह है कि इनमें से कोई भी कोरोना पॉजिटिव नहीं निकला। गुरुवार को बैंडबाजे और फूलों से सजावट करने वालों के सैंपल लिए जाएंगे।

सर्दी के मौसम के साथ ही कोरोना केसों में तेजी आई है। अक्टूबर माह में कुल 174 कोरोना केस मिले थे, जबकि नवंबर माह में 165 केस मिले। इनमें भी नवंबर माह के शुरुआत में केसों में कमी थी, लेकिन 15 नवंबर के बाद से पॉजिटिव केसों में तेजी आ गई। इसी बीच शादी-ब्याह की सहालगें भी शुरू हो गई। जिसमें शासन द्वारा निर्धारित की गई 100 लोगों की बंदिश का पालन कम ही हुआ है। ऐसे में संक्रमण की रफ्तार को काबू में करने के लिए विशेष अभियान चलाए जा रहे हैं। 19 नवंबर से 30 नवंबर तक चलाए गए अभियान में मलिन बस्ती, शिक्षा विभाग, रोडवेज विभाग, जिला कारागार, वृद्धाश्रम, रेहड़ी-पटरी के दुकानदारों के 410 सैंपल लिए गए थे, जिसमें 5 में कोरोना की पुष्टि हुई थी। अब फिर से तीन दिवसीय विशेष अभियान में गेस्ट हाउस, कैटर्स, बैंडबाजे वाले और फूलों की सजावट करने वालों के सैंपल लिए जा रहे हैं।

अर्बन कोआर्डिनेटर पीयूष ने बताया कि एक व दो दिसंबर को गेस्ट हाउस स्टाफ और कैटरिंग का ठेका लेने वालों के 65 सैंपल लिए गए थे, लेकिन कोई भी पॉजिटिव केस नहीं मिला। जबकि कल 3 दिसंबर को बैंडबाजे और फूलों की सजावट करने वालों के सैंपल लिए जाएंगे। स्वास्थ्य विभाग की तीन सदस्यीय टीम लैब टेक्नीशियन अब्बास, एएलए राजेंद्र और स्टाफ नर्स दिलीप सैंपल लेने के अभियान में लगाए गए हैं।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ.आरके सचान ने बताया कि कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए सभी एहतियाती कदम उठाए जा रहे हैं। शादी-ब्याह में भीड़भाड़ हो रही है। लोग एहतियात बरतें। सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क पहनने को आदत में डाल लेना ही बेहतर विकल्प है।

 


आयोजक मेहमानों को दो शिफ्टों में बुलाए

महामारी रोग विशेषज्ञ डॉ.संदीप का कहना है कि शादी-ब्याह के आयोजक दो शिफ्टों में कार्यक्रम का आयोजन कराएं तो अच्छा होगा। सुबह की शिफ्ट में व्यवहारियों को बुला लें और शाम को सिर्फ बारात के लोगों का ही इंतजाम कराएं। जिस भी स्थान से कार्यक्रम करें, वहां सैनेटाइज की व्यवस्था कराएं। मेहमानों को मास्क अनिवार्य रूप से लगवाएं। बुखार-जुकाम के मरीज शादी-ब्याह में जाने से परहेज करें। संभव हो सके तो थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था कराएं। शादी-ब्याह का अरेंजमेंट करने वाले पूरी तरह से स्वस्थ होने चाहिए। कोशिश करें कि धुएं वाली आतिशबाजी का प्रयोग न करें।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा

मंगलमय हो मिलन तुम्हारा

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?