वृद्धाश्रमों में निःशुल्क भोजन, वस्त्र, औषधि, मनोरंजन के साधन सहित स्वच्छ पेयजल आदि की सुविधा उपलब्ध

इस वर्ष वृद्धाश्रमों में रह रहे 4527 वृद्धजनों को लाभान्वित किया जा रहा है

दिनांक- 05.12.2020
प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी द्वारा प्रदेश के हर वर्ग, किसान, युवा, महिलाओं, बालिकाओं, गरीबों, मजदूरों, अल्पसंख्यकों अनुसूचित जाति/जनजातियों, पिछड़ों, छात्र छात्राओं आदि का ध्यान रखते हुए सभी के लिए योजनाएं, कार्यक्रम लागू करते हुए विकास किया जा रहा है। इसके साथ ही निराश्रित, अशक्त, बेसहारा वृद्धजनों, वरिष्ठ नागरिकों को भी वृद्धाश्रमों के माध्यम से पूरा ध्यान रखकर उनका भरण-पोषण का कार्य भी किया जा रहा है।
यह जानकारी प्रदेश के समाज कल्याण मंत्री श्री रमापति शास्त्री ने देते हुए बताया कि प्रदेश सरकार उ0प्र0 माता-पिता एवं वरिष्ठ नागरिकों का भरण-पोषण तथा कल्याण अधिनियम लागू करते हुए प्रदेश के निराश्रित, अशक्त, बेसहारा, सामाजिक कारणों से पीड़ित वृद्धजनों के लिए भरण-पोषण हेतु सभी जनपदों में पी0पी0पी0 माॅडल पर 150 क्षमता के वृद्धाश्रमों का संचालन किया जा रहा है।
     श्री शास्त्री ने बताया कि प्रदेश के सभी जनपदों में संचालित इन वृद्धाश्रमों मेें रह रहे वृद्धजनों को सम्मान व आदर सहित प्रदेश सरकार द्वारा निःशुल्क आवास, भोजन, वस्त्र, औषधि, मनोरंजन के साधन सहित स्वच्छ पेयजल आदि की सुविधा प्रदान की जा रही है। उन्होंने बताया कि प्रत्येक वृद्धाश्रमों में 150 से अधिक बेड, विस्तर, चादर, ओढ़ने हेतुु कम्बल आदि की व्यवस्था की गई है। वृद्धाश्रमों में रह रहे बुजुर्गो को चाय, नाश्ता, संतुलित भोजन आदि भी समय से दिया जाता है। वृद्धाश्रमांे में वृद्धों की समय-समय पर चिकित्सीय जांच कराते हुए उनकों दवा आदि उपलब्ध करायी जाती है। उन्होंने बताया कि वृद्धाश्रमों में रह रहे वृद्धजनों के लिए मनोरंजन के साधन भी उपलब्ध हंै।
     श्री शास्त्री ने बताया कि प्रदेश सरकार वृद्धों की सेवा के साथ-साथ उन्हें वृद्धावस्था पेंशन भी प्रदान कर रही है। इसी तरह वर्ष 2017-18 में 5711, वर्ष 2018-19 में 5,410 एवं वर्ष 2019-20 में 5961 वृद्धजनों को लाभान्वित किया गया है। इस वर्ष वृद्धाश्रमों में रह रहे 4527 वृद्धजनों को लाभान्वित किया जा रहा है।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या