टीबी को हराने को कमर कसी, आज से अभियान

0 टीबी हारेगा, देश जीतेगा अभियान के तहत आज से खोजे जाएंगे टीबी रोगी 0 जनपद की ढाई लाख की आबादी के बीच चलाया जाएगा अभियान, लगेंगी 88 टीमें 0 जेल के चौदह और वृद्धाश्रम के चार टीबी के सैंपल जांच में निगेटिव निकले
गणेश सिह,हमीरपुर, 01 जनवरी 2021 2025 तक देश को टीबी से मुक्त करने के अभियान के तहत 2 जनवरी से सघन टीबी रोगी खोजों अभियान की शुरुआत होगी। इस बार अभियान में जनपद की बीस प्रतिशत आबादी को लिया गया है। करीब ढाई लाख आबादी की स्क्रीनिंग होगी, जिसमें संभावित टीबी रोगियों के बलगम की जांच होगी। इस अभियान में कुल 88 टीमों को लगाया गया है, जो घर-घर जाकर संभावित रोगियों की खोजबीन करेंगी। टीम की निगरानी के लिए 20 सुपरवाइजर लगाए गए हैं। केंद्र सरकार ने देश को टीबी मुक्त बनाने का अभियान शुरू किया है। इसी के चलते समय-समय पर सघन टीबी रोगी खोजो अभियान (एसीएफ) चलाया जा रहा है। कल 2 जनवरी से जिले में इस अभियान की शुरुआत होगी। जिसके लिए स्वास्थ्य विभाग ने सभी तरह की तैयारियां कर रखी हैं। जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ.महेशचंद्रा ने बताया कि इस बार अभियान में जनपद की बीस प्रतिशत आबादी की घर-घर जाकर स्क्रीनिंग की जाएगी। लगभग ढाई लाख से अधिक लोगों तक टीमें पहुंचेंगी। जिन लोगों में टीबी के शुरुआती लक्षण मिलेंगे, जैसे लगातार बुखार रहना, भूख न लगना और वजन कम होना, खांसी आना, ऐसे लक्षणों वाले संभावित मरीजों के बलगम के सैंपल लेकर जांच को भेजे जाएंगे। अगर इनमें टीबी की पुष्टि होती है तो इनका इलाज शुरू कराया जाएगा। इस अभियान में कुल 88 टीमों को लगाया गया है, जिनकी निगरानी बीस सुपरवाइजर करेंगे। डॉ.महेशचंद्रा ने बताया कि 27 से 31 दिसंबर तक जिला कारागार और वृद्धाश्रम में रहने वाले वृद्धजनों के स्वास्थ्य की जांच की गई। जेल के 660 बंदियों की स्क्रीनिंग में 22 बंदियों के सैंपल लेकर जांच को भेजे गए। इसी प्रकार वृद्धाश्रम में 40 वृद्धजनों की स्क्रीनिंग में 4 के सैंपल जांच को भेजे गए थे। उक्त सभी 26 सैंपल जांच में निगेटिव मिले हैं। जेल और वृद्धाश्रम में एक भी टीबी रोगी नहीं मिला है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या