सुना नहीं तुमने....

हाँ मैंने कुछ कहा सुना नहीं तुमने बाग से कोई फूल चुना नहीं तुमने यादों के जाले ने आकृति बना दी उसपर कोई रूप बुना नहीं तुमने देखो तो धूप खिलकर निकली है महसूस,मौसम गुनगुना नहीं तुमने एक बात बार-बार लबों पर आयी वचन की बातों को धुना नहीं तुमने दुनियां ये मानो किसी भट्ठी जैसी है अच्छा है खुद को भूना नहीं तुमने "उड़ता"ये खब्त है जाती सी जाएगी कुछ कहकर भी अनसुना नहीं तुमने - सुरेंद्र सैनी बवानीवाल "उड़ता"

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा