जिंदगी को गाड़ी की रफ्तार देंगे दिव्यांग

दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग ने 1148 दिव्यागों को प्रदान किये सहायक उपकरण
  दिव्यांगजन बोले- उपकरण मिल गया, अब आसान होगी जिन्दगी
अभय त्रिपाठी
बांसी दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग व एलिम्कों के सहयोग से रविवार को डुमरियागंज ब्लॉक परिसर में तहसील क्षेत्र के दिव्यांगजनों को स्वावलंबी व रोजगार परक बनाने के लिए सहायक उपकरण वितरित किये गए। उपकरण मिलने के बाद दिव्यांग बोले उपकरण मिले हैं, अब जिन्दगी को गाड़ी को वह एक रफ्तार दे सकेंगे। इस दौरान तहसील क्षेत्र के 1148 दिव्यांगजनों को सहायक उपकरण प्रदान किए गए।   कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सांसद जगदंबिका पाल ने कहा कि दिव्यांगता दैवीय शक्ति है। इसे अभिशाप न मानें, बल्कि इसी दिव्यांगता के बलबूते समाज में बेहतर करने का हुनर दिखायें। दिव्यांगों के भीतर हुनर छिपा है, बस इसे निखारने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि दिव्यागंजनों को उपकरण मिल गया है, अब खुद को स्वावलंबी व रोजगार परक बनाकर परिवार की जीविका का सहारा बनें।  इस मौके पर विशिष्ट अतिथि विधायक राघवेंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि दिव्यांगजन समाज के लिए पूज्यनीय हैं। समाज के लोगों को इनकी मदद करनी चाहिए। समाज भी इनकी मदद में आगे आए तो यह आसानी से आसमां छू लेंगे। उन्होंने कहा कि दिव्यागंता को कमजोरी न समझे, बल्कि इसके साथ छिपे हुनर को प्रदर्शित करने का कार्य करें। इस दौरान जिला दिव्यांगजन सशक्तिकरण अधिकारी एजाजुल हक खान ने कहा कि दिव्यागंजन विभाग एलिम्बों के सहयोग से लगातार कार्य करते हुए उपकरण वितरण करा रही है। दिव्यागंजनों के सहयोग के लिए स्वंयसेवी संस्था सेंटर फॉर एडवोकेसी एंड रिसर्च (सीफॉर) द्वारा दिव्यांग सेतु एप लांच कराया गया है। इस एप के जरिए दिव्यांगजन व परिवार के लोग घर बैठे उपकरण के लिए आवेदन कर सकते हैं। ऑनलाइन आवेदन कर देने से सभी को समय से उपकरण उपलब्ध कराया जाएगा। इस दौरान बीडीओ सुशील अग्रहरि, सुशील तिवारी, यशवंत राव, सौरभ, अनिल, नरेंद्र मणि त्रिपाठी, मधुसूदन अग्रहरि  प्रमुख तौर पर मौजूद रहे।  स्वास्थ्य टीम ने की जांच शिविर में बेंवा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) के स्वास्थ्यकर्मियों ने मौजूद लोगों के स्वास्थ्य की जांच की। वार्ड ब्वाय अभिलाष सिंह, स्टॉफ नर्स विश्व मोहनी सिंह सभी को मॉस्क वितरित करते हुए हाथों को सेनेटाइज भी कराया। समूचे आयोजन में कोविड-19 के प्रोटोकाल का ध्यान रखा गया। दर्जनों लोगों ने डाउनलोड किया एप सीफॉर की टीम ने शिविर में पूछताछ केंद्र की जिम्मेदारी संभाल रखी थी। इस दौरान टीम के सदस्य लोगों की समस्याओं का समाधान कराते रहे। इसके अलावा दर्जनों लोगों के मोबाइल में दिव्यांग सेतु एप भी डाउनलोड कराया।  इतने लोगों को मिला उपकरण उपकरण संख्या ट्राई साइकिल 261 ह्वील चेयर 92 बैशाखी 196 छड़ी 226 कान की मशीन 216 ब्लाइंड स्टिक 04 स्मार्ट केन 06 एमआर किट 03 टेट्रापॉड 15 वृद्धजनों का चश्मा 61 वृद्धजनों का दांत 57 रोलेटर 07 डेली प्लेयर 02 सीपी चेयर 01 स्मार्ट फोन 01   

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या