सेवायोजन पोर्टल के माध्यम से बेरोजगारों को घर बैठे पूरी होगी नौकरी की तलाश-स्वामी प्रसाद मौर्य

हरीश गौतम
लखनऊ: दिनांक 16 फरवरी, 2021 प्रदेश के श्रम एवं सेवायोजन मंत्री श्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने आज प्रदेश के 3271 बेरोजगार नवयुवकों को नियुक्ति पत्र देते हुए कहा कि यह नौकरी आपका अंतिम पड़ाव नहीं है बल्कि जीवन में आगे बढ़ने का माध्यम है। केन्द्र एवं प्रदेश सरकार की मंशा है कि सभी अपनी योग्यता एवं कार्यकुशलता के अनुसार देश के विकास में सहयोगी बनकर विकास की मुख्य धारा में शामिल हों। उन्होंने कहा कि सबका साथ, सबका विकास एवं सबका विश्वास व सम्मान केन्द्र एवं प्रदेश सरकार की मंशा है। इसी के अनुरूप प्रदेश सरकार हर जरूरतमंद तक अपनी कल्याणकारी योजनाओं का लाभ पहुंचा रही है। सरकार के प्रयासों से ही राज्य के बेरोजगार नौजवानों को अभियान चलाकर सेवायोजित किया जा रहा है। प्रदेश सरकार समाज के अन्तिम पायदान पर खड़े व्यक्ति को सम्मान दिलाने के लिए कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार अब तक 04 लाख नौजवानों को रोजगार सेवायोजन विभाग के माध्यम से दिया है। कौशल विकास विभाग के माध्यम से भी 04 लाख नव युवकों को रोजगार दिया गया। आईटीआई के माध्यम से 03 लाख नवयुवकों को नौकरी दी गयी। इसी प्रकार सरकारी क्षेत्र में भी संविदा के 06 लाख भर्तियां अब तक की जा चुकी हैं। प्रवासी मजदूरों को भी कार्यकुशलता के आधार पर रोजगार दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की पूर्ववर्ती सरकार ने अपने पूरे कार्यकाल में महज 1.81 लाख बेरोजगारों को सेवायोजित किया था। प्रदेश की वर्तमान सरकार इस आंकड़े से 03 से 04 गुना ज्यादा नवयुवकों को नौकरी देगी। श्रम मंत्री श्री मौर्य आज बदायूं जनपद के इस्लामिया इण्टर काॅलेज प्रांगण में आयोजित एक दिवसीय वृहद रोजगार मेले को सम्बोधित कर रहे थे। इस रोजगार मेले में 65 निजी क्षेत्र की कम्पनियों के विभिन्न पदों के लिए आयोजित की गयी भर्ती प्रक्रिया 7676 नौजवानों ने प्रतिभाग किया, जिसमें से 3271 नवयुवक एवं नवयुवतियों को चयनित कर श्रम मंत्री जी द्वारा नियुक्ति पत्र दिया गया। इस रोजगार मेले में कम्पनियों द्वारा साक्षात्कार के माध्यम से सेल्समैन, सिक्योरिटी गार्ड, मार्केटिंग एवं आईटी सेक्टर के पदों पर अभ्यर्थियों का चयन किया गया, जिसमें इन चयनित अभ्यर्थियों को नौकरी के दौरान 08 हजार रूपये से लेकर 25 हजार रूपये का वेतनमान मिलेगा। श्रम मंत्री ने इस अवसर पर कहा कि सरकारी सेवाओं में नौजवानों को सेवा के पर्याप्त अवसर नहीं है। सरकारी सेवा में पद सीमित हैं और आबादी के अनुपात में सरकारी क्षेत्र में पदों की बढ़ोत्तरी नहीं हुई। उन्होंने कहा कि निजी क्षेत्रों में कर्मचारी को अपनी कार्यकुशलता एवं योग्यता के आधार पर असीमित क्षेत्र में आगे बढ़ने का अवसर प्राप्त होता है। निजी क्षेत्र की बड़ी-बड़ी कम्पनियों में नौकरी करके कोई भी जीवन में अपनी योग्यता के बल पर बहुत आगे तक जा सकता है। श्रम मंत्री ंने कहा कि प्रदेश सरकार निजी क्षेत्रों में नौकरी दिलाने के साथ ही सरकारी क्षेत्रों में भी संविदा की भर्तियों को अब सेवायोजन पोर्टल के माध्यम से करेगी। इस पोर्टल में बेरोजगार अपना रजिस्ट्रेशन कराकर योग्यतानुसार आसानी से नौकरी पा सकता है। इस पोर्टल से घर बैठे पता चल जायेगा कि सरकारी एवं निजी क्षेत्रों के लिए आ रही भर्तियों के लिए आपकी योग्यता क्या है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने प्रवासी श्रमिकों को रोजगार दिलाने के लिए उ0प्र0 कामगार एवं श्रमिक (सेवायोजन एवं रोजगार) आयोग का गठन किया है। इसके माध्यम से श्रमिकों को उसकी कार्यकुशलता के आधार पर रोजगार दिया जा रहा है। कार्यक्रम में नगर विकास राज्यमंत्री श्री महेश गुप्ता, बदायूं सांसद श्रीमती संघमित्रा मौर्य, विधायक श्री धर्मेन्द्र शाक, उप निदेशक सेवायोजन श्री पी0के0 पुण्डीर, कौशल विकास एवं जिला रोजगार अधिकारी के साथ कम्पनियों के अधिकारी उपस्थित थे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा