हथकरघा एवं वस्त्रोद्योग को बढ़ावा देने लिए सोलर आधारित लूम लगाने पर मिलेगी सब्सिडी- सिद्धार्थ नाथ सिंह

12 बुनकरों को मिला संत कबीर राज्य हथकरघा पुरस्कार
13 परिक्षेत्रों से 39 बुनकरों को भी किया गया पुरस्कृत
पूंजीगत ब्याज उपादान योजना के अन्तर्गत 32 वस्त्र इकाईयों को 2 करोड़ 84 लाख रूपये का वितरण
लखनऊ, दिनांक 16 मार्च, 2021 उत्तर प्रदेश के हथकरघा एवं वस्त्रोद्योग मंत्री श्री सिद्धाथ नाथ सिंह ने कहा कि हथकरघा एवं वस्त्रोद्योग को बढ़ावा देने लिए सोलर आधारित लूम लगाने पर सब्सिडी दी जायेगी। इसके लिए शीघ्र ही पालिसी भी आयेगी है। उन्होंने कहा एक जिला-एक उत्पाद (ओ0डी0ओ0पी0) कार्यक्रम के तहत चयनित जनपदों में सामान्य सुविधा केन्द्र (सीएफसी) की स्थापना कराई जा रही है। श्री सिंह आज इंदिरागांधी प्रतिष्ठान में हथकरघा एवं वस्त्रोद्योग विभाग द्वारा आयोजित संत कबीर राज्य हथकरघा पुरस्कार वितरण समारोह में बुनकरों एवं करीगरों को सम्बोधित कर रहे थे। इस अवसर हथकरघा एवं वस्त्रोद्योग राज्यमंत्री चैधरी उदय भान सिंह भी मौजूद थे। श्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि बुनकरों को कारीगरों के हुनर को बढ़ाने के लिए मनीष मल्होत्रा, रितु बेरी, रीना ढाका आदि ख्याति प्राप्त फैशन डिजाइनर्स को जोड़ा गया है। प्रदेश में टेक्सटाइल्स पार्क की स्थापना कराई जा रही है। साथ ही आठ हजार करोड़ रुपये का निवेश भी टेक्सटाइल्स क्षेत्र में होने जा रहा है। पुरस्कार वितरण समारोह में प्रदेश स्तरीय प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय श्रेणी के बुनकरों को श्रेणीवार 1. ( साड़ी, ब्रोकेड, डेªस मटेरियल ) श्रेणी नं0.-2 (सूती दरी, ऊलेन दरी, आसनी एवं दरेट ) श्रेणी नं0.-3 ( बेडशीट, बेडकवर एवं होम फर्निषिंग ) श्रेणी नं0.-4 ( स्टोल, स्कार्फ, गमछा व अन्य ) सहित कुल 12 हथकरघा पुरस्कारो का वितरण किया गया है। बुनकरों को नकद धनराषि, षील्ड, अंगवस्त्रम् व प्रमाण-पत्र देकर सम्मानित किया गया। क्रमांक बुनकर का नाम व पता श्रेणी सैम्पुल पुरस्कृत धनराषि 1 श्री राकेश पुत्र स्व0 विश्वनाथ, ग्राम व पोस्ट-उमरहाॅ चिरईगाॅव, वाराणसी। प्रथम बनारसी साड़ी, रंगकाट 1,00,000/- 2 श्री आकाष पुत्र श्री जगदीश, वसुंधरा कालोनी, चांदमारी ललितपुर। द्वितीय मोनिका, सिल्क साड़ी 50,000/- 3 श्री बदरुज्जमा पुत्र श्री खलीकुज्जमा ग्राम-काजीटोला वलीदपुर, मऊ। तृतीय काटन सूट 25,000/- 4 श्रीमती सीमा मौर्या पत्नी श्री धीरेन्द्र मौर्या, ग्राम-सरैया बंधुआकला, सुल्तानपुर। प्रथम ऊलेन दरी 1,00,000/- 5 श्री साबित अली पुत्र श्री सहाबुद्दीन, ग्रा0 सजनापुर, पो0तेदुआ विसवाॅ, सीतापुर। द्वितीय दरी 50,000/- 6 श्री शहाबुद्दीन पुत्र मो0 अहमद 83 बी, सुजातगंज, कानपुर। तृतीय दरी 25,000/- 7 श्री गणेश प्रसाद मौर्या पुत्र स्व0 होरी लाल, ग्रा0 पूरे, कछवा रोड सेवापुरी वाराणसी। प्रथम हैगिंग दरी, श्री कृश्ण जी नृत्य 1,00,000/- 8 श्री फैजुल हसन अंसारी पुत्र स्व0 कुतुबुल हसन, मो0-रसूलपुर दषहरीबाग, गोरखपुर। द्वितीय ब्रोकेड बेडकवर 50,000/- 9 श्रीमती ब्रिजेश पत्नी श्री जग मोहन, न्यू आर्यनगर, पिलखुआ, हापुड। तृतीय बेडषीट (सिंगल) 25,000/- 10 श्री कमलेश पुत्र स्व0 लोटन, ग्राम व पोस्ट-हाजीपुर चोलापुर, वाराणसी। प्रथम स्टोल, रंगकाट डिजाइन 1,00,000/- 11 श्री जावेद अहमद पुत्र श्री मुनीर अहमद, मो0 बड़ापुरा, जैदपुर, बाराबंकी। द्वितीय स्टोल, 50,000/- 12 श्री दिनेश पुत्र श्री नन्दलाल, वसुंधरा कालोनी, चांदमारी ललितपुर। तृतीय स्कार्फ 25,000/- इसके साथ ही 13 परिक्षेत्रों से प्रथम, द्वितीय व तृतीय पुरस्कार पाने वाले कुल 39 बुनकरों को भी पुरस्कृत किया गया। परिक्षेत्र स्तरीय चयन समिति द्वारा चयनित बुनकरों को प्रथम पुरस्कार की धनराशि रू0 20,000/-, द्वितीय पुरस्कार की धनराशि रू0 15,000/- तथा तृतीय पुरस्कार की धनराशि रू0 10,000/- प्रदान की गई। पुरस्कार वितरण समारोह के अवसर पर वस्त्रोद्योग विभाग द्वारा संचालित पूंजीगत ब्याज उपादान योजना के अन्तर्गत 32 वस्त्र इकाईयों को 2 करोड़ 84 लाख रूपया वितरित किया गया। भारत सरकार द्वारा टेक्सटाईल सेक्टर में प्रचुर मात्रा में दक्ष मैनपावर की उपलब्धता बनाये रखने हेतु 99,000 युवक-युवतियों के प्रषिक्षण हेतु लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इस अवसर पर श्री गोविन्द राजू एन0एस0 आयुक्त एवं निदेशक, हथकरघा एवं वस्त्रोद्योग, उ0प्र0, कानपुर, कन्हैयालाल, वित्त नियन्त्रक, श्री आनन्द मोहन, संयुक्त आयुक्त, हथकरघा एवं वस्त्रोद्योग, डा0 राजाराम, उप आयुक्त तथा श्री के0 पी0 वर्मा, उप आयुक्त, श्री पी0सी0 ठाकुर, उपआयुक्त, श्री राजीव त्रिपाठी, सहायक आयुक्त के साथ गणमान्य अधिकारीगण एवं बड़ी संख्या में बुनकर उपस्थित रहंे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या