बड़े शौक से सुन रहा था ज़माना, तुम्हीं सो गये दास्तां कहते-कहते......

जनपद के प्रथम पत्रकार या यूं कहें कि ललितपुर में पत्रकारिता की अलख जगाने वाले पं श्री रुद्र नारायण शर्मा जिन्हें सभी लल्ला जी के नाम से जानते थे। उन्होंने अपना पूरा जीवन दूसरों की व असहायों की मदद करने में निकाला। श्री शर्मा जी समाज सेवा के लिए हमेशा तत्पर रहे। लल्ला जी ने न सिर्फ समाज सेवा बल्कि शिक्षा के क्षेत्र में भी अग्रणी रहे। ललितपुर में स्नातक की पढ़ाई के लिए जनपद के उच्चाधिकारियों व शिक्षाविदों के साथ पहली मीटिंग की और उस मीटिंग की परिणति नेहरू स्नातकोत्तर महाविद्यालय के रूप में विद्यमान है जिसमें हज़ारों छात्र-छात्राएं उच्च शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं। उन्होंने जनपद में अनेकों खेल प्रतियोगिताएं आयोजित कीं जिनमें बैडमिंटन, कबड्डी जैसे खेल शामिल रहे। ललितपुर में विभिन्न संगीत कार्यक्रम भी आयोजित किए जिनमें भजन संध्या, लोकगीत, सुगम संगीत व शास्त्रीय संगीत के अनेकों कार्यक्रम सम्पन्न करायें। भारतीय फिल्म संगीत के गायिकी के सशक्त हस्ताक्षर भूपेंद्र जी, जिन्होंने " कभी किसी को मुकम्मल जहां नहीं मिलता और हुजूर इस कदर भी न इतराते चलिए व किसी नज़र को तेरा इंतज़ार आज भी है" जैसे अमर गीत-गज़ल गाये हैं। ललितपुर आकर श्री भूपेंद्र जी ने अपनी जुखामिया आवाज़ का जादू बिखेरा था। इसी प्रकार उस समय बाल फिल्मों को शिक्षा से जोड़ने की कवायद चल रही थी उस समय तत्कालीन उच्चाधिकारियों ने श्री शर्मा जी को बाल फिल्म महोत्सव आयोजित कराने के लिये चुना। उस समय एक मात्र ललित टाकीज हुआ करती थी जिसमें बाल फिल्म फेस्टिवल आयोजित किए खरे जिसमें "छत्रपति शिवाजी" व "सफेद हाथी" जैसी सफल फिल्मों का प्रदर्शन स्थानीय ललित टाकीज में किया गया। उस दौर में भारत केसरी पहलवान दारासिंह जो अंर्तराष्ट्रीय स्तर पर विख्यात थे और दंगलों का बहुत प्रचलन था। तब श्री शर्मा जी ने विभिन्न महिला व पुरुष दंगल आयोजित किये। यद्यपि आज आप हम सबके बीच नहीं हैं परंतु न सिर्फ पत्रकारिता जगत में बल्कि सामाजिक, धार्मिक, व जनहित में आपके द्वारा किए गए सत्कर्म हम सभी के स्मृति पटल पर आज भी अंकित हैं और हमेशा रहेंगे। आपके द्वारा दिखाए गए सफल व उद्देश्यपूर्ण जीवन के मार्ग पर चलने के लिए हम सभी संकल्पबद्ध हैं। आज आप की आठवीं पुण्यतिथि पर हम सब आपको नतमस्तक होकर श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं। प्रस्तुति- सुबोध शर्मा 'विश्वास' प्रान्तीय सचिव अखिल भारतीय ब्राह्मण एकता एवं विकास परिषद।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या