ललितपुर में पोलिंग पार्टी पर हमला प्रशासनिक कार पर पथराव, मतपेटी लूटने की कोशिश अफसरों को बंधक भी बनाया था, प्रधान प्रत्याशी समेत 329 लोगों पर एफआईआर

पुलिस के अफसरों ने हालात पर काबू पाया
ललितपुर। जिले के थाना बानपुर क्षेत्रांतर्गत ग्राम बिल्ला गांव में पंचायत चुनाव की मतगणना के दौरान भारी बवाल हो गया। देर शाम खबरें यहां तक आती रहीं कि प्रशासनिक अधिकारियों की गाडिय़ों पर पथराव किया गया, मतपेटियां लूटने का प्रयास किया गया तो वहीं अफसरों को बंधक बनाने का प्रयास किया गया। बवाल के मामले में पुलिस ने 29 नामजद और 300 अज्ञात पर केस दर्ज किया है। पुलिस आरोपियों की तलाश में जुटी है। बवाल को देखते हुए गांव में फोर्स तैनात है। फर्जी वोटिंग का आरोप लगाकर किया हंगामा सोमवार को उत्तर प्रदेश में ललितपुर समेत 20 जिलों में पंचायत चुनाव के तहत दूसरे चरण की वोटिंग थी। ललितपुर में थाना बानपुर के बिल्ला गांव स्थित प्राथमिक विद्यालय बिल्ला मतदान केंद्र के बूथ 103 और 104 में सोमवार को शाम 6 बजे तक मतदान होता रहा। आरोप है कि समय पूरा होने पर मतदाताओं को बूथ के अंदर कर लिया गया। इसी दौरान प्रधान प्रत्याशी महेंद्र सिंह ने पीठासीन अधिकारी पर दूसरे प्रत्याशी के पक्ष में फर्जी मतदान करने का आरोप लगाते हुए हंगामा कर दिया। इसके बाद प्रत्याशी के समर्थक में तमाम ग्रामीण एकत्र हो गए और हंगामा करने लगे। डीएम की गाड़ी समेत कई वाहन क्षतिग्रस्त सूचना मिलने पर जिलाधिकारी अन्नावि दिनेश कुमार और पुलिस अधीक्षक प्रमोद कुमार मौके पर पहुंच गए। उन्होंने ग्रामीणों को समझाने का प्रयास किया। ग्रामीणों ने पथराव कर दिया। जिसके चलते जिलाधिकारी की कार सहित एक दर्जन वाहन क्षतिग्रस्त हो गए। ग्रामीण मत पेटियां लूटने का प्रयास करने लगे। ग्रामीणों का आरोप हैं कि पुलिस ने पहले लाठी चार्ज कर दिया और फायरिंग भी की। डीएम बोले- होगी कठोर कार्रवाई पुलिस ने प्रधान प्रत्याशी महेंद्र राजपूत उर्फ बबलू, धमेंद्र, रामदास, दीपक, अनिल, शिवभानु, पान बाई पत्नी महेंद्र, विमला पत्नी धमेंद्र, तुलसी नारायण, बृषभान, अरविंद सहित 29 नामजद और 300 अज्ञात लोगों पर पुलिस व पोलिंग पार्टी पर हमला कर मतपेटियां लूटने का प्रयास, जान से मारने की नीयत से मारपीट करने, सरकारी कार्य में बाधा डालने, सरकारी संपत्ति को नुकसान करने की धाराओं में मामला दर्ज किया गया है। वहीं, महेंद्र राजपूत ने दूसरे प्रत्याशी व उनके समर्थकों पर हंगामा करने व पुलिस कर्मियों पर मारपीट एवं फायरिंग करने का आरोप लगाया है। स्क्क प्रमोद कुमार ने कहा कि आरोपियों की तलाश की जा रही है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि