आज से 45 से अधिक उम्र वालों को टीका लगना हुआ शुरू

जिले में अब तक 30,568 लोग हुए कोविड से प्रतिरक्षित टीका लगवा कर कोरोना से खुद बचें और दूसरों को भी बचाएं टीका लगवाने के बाद प्रमाणपत्र लेना है जरूरी
ललितपुर। होली का त्यौहार खत्म होते ही कोरोना के केस बढऩे लगे हैं। कोरोना से बचने के लिए मास्क, उचित दूरी और नियमित अन्तराल पर हाथ धोना तो जरूरी है ही। इसके साथ ही अब टीकाकरण कराना भी जरूरी हो गया है। जिले को कोरोना की दूसरी लहर से बचाने के लिए अधिक से अधिक टीकाकरण पर जोर दिया जा रहा है। इसी चरण में गुरूवार यानि एक अप्रैल से 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों का टीकाकरण शुरू हो गया है। यह जानकारी जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा.हुसैन खान ने दी। उन्होंने बताया कि जिले में अब तक 30,568 लोगों को कोरोना का टीका लग चुका है। एक अप्रैल से 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों का टीकाकरण शुरू हो रहा है, इसके लिए जिले का लक्ष्य करीब 78,000 है। जिला अस्पताल और जिला महिला अस्पताल सहित सभी स्वास्थ्य केन्द्रों पर 31 सत्रों में टीकाकरण किया जायेगा। टीका लगवाने के लिए कोविन पोर्टल पर पहले से ऑनलाइन पंजीकरण करा कर या फिर तत्काल पंजीकरण करा कर कोरोना का टीका लगवा सकते है। इसके बाद उन्हें प्रमाण पत्र भी दिया जाता है। यह प्रमाण पत्र लेना जरूरी है क्योंकि इस पर टीकाकरण की तिथि और वैक्सीन का नाम अंकित होता है, जिसके आधार पर लाभार्थी को टीके की दूसरी डोज दी जाएगी। बताया कि कुछ माह पहले कोरोना के केस में गिरावट होने से लोगों में लापरवाही बढ़ गई थी। मास्क, उचित दूरी और हाथ धोना टीका लगने के बाद भी भूलना नहीं है। साथ ही टीका लगवा कर खुद के साथ ही दूसरों को भी कोरोना से बचाया जा सकता है। इसलिए समझदार बन कर अपने नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्रों पर टीका लगवाने जरूर आयें। अब तक के टीकाकरण के आंकड़े डा.हुसैन खान ने बताया कि जिले में 16 जनवरी से टीकाकरण शुरू हुआ था। अब तक पहले चरण में स्वास्थ्य कर्मियों का टीकाकरण हुए था जिसमें 4116 को (पहला डोज) 2939 को (दूसरा डोज) लग चुका है। इसका प्रतिशत 84.59 प्रतिशत है। वहीं दूसरे चरण में फ्रण्टलाइन वर्कर का टीकाकरण हुआ था जिसमें 4310 (पहला डोज) 2967 (दूसरा डोज) लोगों को टीका लग चुका है और इसका प्रतिशत 85.98 प्रतिशत है। तीसरे चरण के टीकाकरण में जिनमे 60 वर्ष से अधिक के लोगों को प्रतिरक्षित करना था उनमे 15,896 (पहला डोज) लोगों को प्रतिरक्षित किया जा चुका है। इसके साथ ही 340 ऐसे लोग थे जिनकी उम्र 45- 60 वर्ष के बीच थी और वह किसी बीमारी से ग्रसित थे। प्राईवेट अस्पताल में भी है टीकाकरण की सुविधा उन्होंने बताया कि जिले में दो प्राइवेट अस्पताल कि सिद्धि बाहुबली अस्पताल और जनता चिल्ड्रेन अस्पताल कोरोना का टीका लगाने के लिए अधिकृत हैं। वहां इस व्यवस्था के लिए 250 सौ रुपया शुल्क निर्धारित है जबकि सरकारी स्वास्थ्य केन्द्रों में यह सुविधा एक दम मुफ्त में उपलब्ध है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या