गर्भवती की हुई प्रसव पूर्व जांच, अंतरा लगवाने को भी किया प्रेरित

प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान दिवस के साथ अंतरा दिवस का भी हुआ आयोजन
शिवम अग्निहोत्री
ललितपुर। प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान दिवस के साथ इस बार विशेष अंतरा दिवस का भी आयोजन किया गया। जिले के सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों और हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर अंतरा दिवस का आयोजन किया गया। इसमें गर्भवती के स्वास्थ्य की जांच की गई और उनमें हाई रिस्क प्रेगनेंसी (एचआरपी) वाली महिलाएं चिह्नित की गई। साथ ही स्वैच्छिक रुप से परिवार नियोजन अपनाने वाली महिलाओं को अस्थाई गर्भ निरोधक साधन अंतरा लगवाने की सलाह दी गई। जिला मातृत्व स्वास्थ्य सलाहकार रवि झा ने बताया कि हर माह की नौ तारीख को प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान दिवस का आयोजन किया जाता है। इसमें गर्भवती के स्वास्थ्य संबंधी सभी प्रकार की जांचें निशुल्क की जाती हैं । स्वास्थ्य जांचों के आधार पर उच्च जोखिम गर्भावस्था के बारे में पता लगाया जाता है ताकि समय रहते उनका इलाज किया जा सके और उनका सुरक्षित प्रसव कराया जा सके। इस बार शासन के निर्देश पर प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान दिवस के साथ विशेष अंतरा दिवस का भी आयोजन किया गया। इस बारे में विशेष रूप से आशा बहुओं को निर्देशित किया गया था कि वह कम से कम एक एक महिला लाभार्थी को अस्थाई परिवार नियोजन साधन अंतरा लगवाने के लिए प्रेरित करें। उन महिलाओं को भी प्रेरित करें, जिनका प्रसव हो गया हो और वह फिलहाल दूसरा बच्चा नहीं चाहती हों। ऐसी महिलाओं को स्वास्थ्य केंद्र पर लाकर उन्हें अंतरा इंजेक्शन लगवाएं। उन्होंने बताया कि इसमें महिलाओं को इस बात के लिए प्रेरित किया गया कि वह अस्थाई गर्भ निरोधक अंतरा इंजेक्शन लगवाकर तीन माह तक अनचाहे गर्भ से मुक्ति पा सकती है। यह पूरी तरह सुरक्षित है। महिलाएं अंतरा इंजेक्शन को लेकर भ्रम न पालें। दिक्कत होने पर आशा बहू और नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर जाकर मदद ले सकती हैं। इसके अलावा टोलफ्री नंबर पर भी सलाह ली जा सकती है। क्या कहते हैं आंकड़े
जिला मातृत्व स्वास्थ्य सलाहकार ने बताया की जिला महिला अस्पताल में प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान दिवस पर 110 गर्भवतियों की प्रसव पूर्व जाँच हुई। उनमें से 12 गर्भवती उच्च जोखिम गर्भावस्था के लिए चिन्हित करी गईं। इनमे से 5 में खून की कमी, 1 में हाइपरटेंशन और 7 में अन्य उच्च जोखिम गर्भावस्था की चिन्हित की गईं।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या