पत्रकारों ने कराया कोविड वैक्सीन का टीकाकरण,लोगों से मास्क पहनने और सेनेटाइजर का प्रयोग करने का आह्वान

ललितपुर। वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण की वर्ष 2021 में आई दूसरी लहर काफी भयावहता से पेश आ रही है। इसमें कोरोना संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ भी रही है। तो वहीं शासन के निर्देशानुसार जिला अस्पताल में मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा.अमित चतुर्वेदी के कुशल निर्देशन में वैक्सीनेशन भी बेहतर तरीके से कराया जा रहा है। कोरोना संक्रमण से बचने के लिए लोगों को मास्क पहनने और अधिक से अधिक हाथों को साबुन से अच्छी तरह से धोने का भी आह्वान लगातार किया जा रहा है। वहीं 45 वर्ष की आयु पार कर चुके लोगों को जिला अस्पताल में कराये जा रहे टीकाकरण में भी तेजी लायी जा रही है। जिले के वरिष्ठ पत्रकार राहुल जैन नवभारत ने जिला अस्पताल पहुंच कर को-वैक्सील्ड का पहला टीकाकरण कराया। इस दौरान उन्होंने अपने अनुभव को साझा करते हुये बताया कि वह अधिक से अधिक सुरक्षात्मक रहते हैं। बावजूद इसके शरीर को फिट रखने के लिए शासन द्वारा निर्धारित गाइड लाइन का अनुपालन करते हुये उन्होंने को-वैक्सीन का पहला टीकाकरण कराया है। उन्होंने लोगों से आह्वान किया कि वह मास्क का प्रयोग आवश्यक रूप से करें। शासन से मान्यता प्राप्त पत्रकार राकेश शुक्ला ने टीकाकरण कराते हुये जनपदवासियों से आह्वान किया कि जो भी लोग 45 वर्ष की आयु पूर्ण कर चुके हैं, वह शासन के निर्धारित मानकों को पूरा करते हुये टीकाकरण अवश्य करायें। उन्होंने आह्वान किया कि टीकाकरण एक साधारण प्रक्रिया है, जो कि हमें और हमारे सम्पर्क में आने वाले लोगों को संक्रमण फैलने से बचा सकती है। उन्होंने कहा कि मास्क का प्रयोग करते हुये ही लोग जब आवश्यक हो तभी घरों से बाहर निकलें। इसके अलावा सेनेटाइजर का प्रयोग लगातार करते रहें। वरिष्ठ पत्रकार सुनील शर्मा ने टीकाकरण कराते हुये बताया कि जान है तो जहान है। केन्द्र सरकार के इस कथन को आत्मसात करते हुये उन्होंने टीकाकरण कराया है। इसके अलावा वह लोगों को जागरूक करते हैं, कि जो भी 45 वर्ष की आयु पूर्ण कर चुके हैं, वह टीकाकरण अवश्य करायें। इसके अलावा मास्क का प्रयोग आवश्यक रूप से करें। उन्होंने कहा कि जिले के सिद्धि बाहुबलि अस्पताल व जनता चिल्ड्रन हॉस्पिटल एसबीआई के पास इन अस्पतालों में भी टीकाकरण कराया जा रहा है। इसलिए टीकाकरण करायें और सुरक्षित रहें।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि