कोरोना से पीडि़त गंभीर मरीजों के लिये मुक्ति संस्था आगे आयी

ललितपुर। मुक्ति संस्था एक मुहिम शुरू कर रही है जिसमे कोरोना से पीडि़त गंभीर मरीजों के लिए जिन्हें प्लाज्मा की आवश्यकता है। उनको प्लाज्मा की व्यवस्था करने हेतु ऐसे लोगों से अपील कर रही है जो विगत दिनों कोरोना से जंग लडक़र ठीक हुए है। वे लोग अपना प्लाज्मा दान कर कोरोना संक्रमित लोगों की जान बचा सकते हैं। इस विषय के सम्बंध में मुक्ति संस्था की कोर कमेटी के सदस्यों की एक बैठक बुलाई गई। जिसमें विभिन्न बिंदुओं पर चर्चा कर निकले निष्कर्ष पर मुक्ति संस्था अध्यक्ष अज्जू बाबा ने अंतिम मुहर लगाई जिसमे निर्णय हुआ कि जो भी महानुभाव प्लाज्मा डोनेट कर किसी की जान बचाने में सहयोग करना चाहते हैं वह मुक्ति संस्था के अध्यक्ष अज्जू बाबा के मोबाइल 9506040404 पर अपनी सहमति प्रदान कर एक सहमति पत्र भरकर दे दें। इसके पश्चात मुक्ति संस्था डोनर का एंटीबॉडी टेस्ट कराएगी जिसका 1500 से 1800 रुपए का खर्च संस्था वहन करेगी। इसी के साथ पंकज श्रीवास्तव चित्रांश पैथोलॉजी ने बताया कि संस्था के द्वारा किये जा रहे इस नेक कार्य में चित्रांश पैथोलॉजी पूरा सहयोग करेगी। विभिन्न स्रोतों से मिली जानकारी के अनुसार कोरोना से जंग जीत कर वापिस आये लोगों का एंटीबॉडीज काउंट 2 प्रतिशत या उससे अधिक हो तो ऐसे लोग एकसाथ दो कोरोना संक्रमित मरीजों को अपना प्लाज्मा दान कर उनकी जान बचा सकते हैं। जो भी व्यक्ति कोरोना से ठीक हुए लेकिन उन्होंने अपना एंटीबॉडीज काउंट टेस्ट नहीं करवाया है तो ऐसे लोग मुक्ति संस्था के माध्यम से नि:शुल्क एंटीबॉडी टेस्ट करवा कर कोरोना संक्रमित मरीज को प्लाज्मा दान करने हेतु आगे आ सकते हैं। बैठक उपस्थित डा.विकास जैन ने बताया कि प्लाज्मा दान करने की प्रक्रिया एकदम सरल है इसमें प्लाज्मा दान करने वाले व्यक्ति के शरीर से रक्त निकाल कर उसमें से प्लाज्मा प्रथक कर शेष रक्त वापिस डोनर के शरीर में भेज दिया जाता है। इससे डोनर को किसी प्रकार की कमजोरी नही आती। जो व्यक्ति कोरोना से ठीक हुए हैं उनके शरीर मे बनने वाली एंटीबॉडीज कुछ समय के बाद नष्ट हो जाती है। यदि नष्ट होने के पहले आप अपना प्लाज्मा दान कर किसी की जान बचा सकते हैं तो अवश्य आगे आकर मुक्ति संस्था की मुहिम में शामिल होकर लोगों की जान बचाएं। प्लाज्मा दान करने से पूर्व मुक्ति संस्था के द्वारा डोनर का आवश्यक स्वास्थ्य परीक्षण कराकर सामान्य स्थिति में ही प्लाज्मा डोनेट करवाया जाएगा। डोनर के लिये सम्बंधित अस्पताल तक लाने ले जाने की व्यवस्था यदि मरीज के परिजन सक्षम ना हों तो वो भी मुक्ति संस्था के द्वारा की जाएगी। मुक्ति संस्था अपील करती है कि लोग अपना प्लाज्मा डोनेट करने के लिए निडर होकर आगे आएं और मानव जीवन की रक्षा के लिए किसी की जान बचाकर अपना जीवन धन्य करें। बैठक में मुक्ति संस्थाध्यक्ष अज्जू बाबा, उपाध्यक्ष पं.सुनील चौबे बुढ़वार व आशीष जैन आशू, महासचिव कन्हैया नामदेव, कोषाध्यक्ष सरदार जगजीत सिंह बॉबी, सहसचिव नूतन राज सक्सेना, संस्थापक सदस्य डा.विकास जैन, भीम चौरसिया, आशीष जैन लालू, पंकज श्रीवास्तव चित्रांश पेथीलॉजी, दीपक सिंघई, जाकिर खान, भूपेन्द्र रजक, बाबू सिंह, सुमित जैन, नितिन शर्मा आदि उपस्थित रहे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि