कोरोना संक्रमण के चलते पंचायत चुनावों पर रोक लगायें सरकार : बुविसे

कोरोना के प्रति जिला प्रशासन से कोविड हॉस्पिटलों में चाक चौबन्द व्यवस्था
सेनीटेशन और रेम्डेशिविर इन्जेक्शन की उपलब्धता की मांग
ललितपुर। बुन्देलखण्ड विकास सेना की एक आवश्यक बैठक स्थानीय कंपनी बाग में सेना प्रमुख हरीश कपूर टीटू की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। बैठक में ललितपुर में कोविड-19 कोरोना वायरस के बढ़ते हुए केसों पर गहरी चिन्ता व्यक्त की गई। कहा कि उ.प्र.में होने वाले पंचायत चुनाव के कारण कोरोना गाँव गांव तक फैलने का अंदेशा हो गया है। अभी तक गांव की आबादी कोरोना के संक्रमण से बची हुई है परन्तु पंचायत चुनाव के काऱण कोरोना का विकराल रूप धारण करने का अँदेशा बना हुआ है। इसलिए सरकार को पंचायत चुनाव तत्काल प्रभाव से रद्द करने की आवश्यकता है। उन्होंने यह भी कहा कि ललितपुर में जिला प्रशासन को कोरोना के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए बहुत बड़े अभियान की आवश्यकता है। कोविड गाईडलाईन का पालन कराने हेतु वृहद पैैमाने पर प्रचार-प्रसार होना चाहिए। शासन की कोविड अस्पतालों बेहतर सुविधायें, सेनीटाईजेशन, ऑक्सीजन सिलेण्डर, वेन्टीलेटर, दवाईयां और मरीजों को दिया जाने वाला गुणवत्तायुक्त भोजन की व्यवस्था एकदम चाकचौबन्द हो। उन्होंने कहा कि गम्भीर हालत में रिफर किये मरीजों को पहले सरकारी ऐड मिलता था परन्तु अब नहीं मिलता है, इस पर प्रशासन ध्यान देकर जरूरतमन्दों की मदद करे। वर्तमान में गम्भीर मरीजों के इलाज में प्रयुक्त होने वाले रेम्डेसिविर इन्जेक्शन की उपलब्धता रखी जाये। आरटीपीसीआर टेस्ट की रिपोर्ट 72 घंटे में मिलने की बजाय 24 घंटे में दी जाये। कहा कि पूरे देश इस समय कोरोना महामारी के कठिन दौर से गुजर रहा है। ऐसे उन्होंने सभी नागरिकों से अपील की है कि कोरोना गाईडलाईन का सभी को पालन करना है। सभी को मास्क लगाने के साथ दो गज की दूरी रखनी है और अपनी बारी आने पर सभी पात्र लोगों को टीकाकरण कराना है। इस मौके पर हेमन्त, राजकुमार कुशवाहा, हरविन्दरसिंह सलूजा, अमरसिंह, मुन्ना त्यागी, कदीर खान, राजेन्द्र राजपूत, मगनलाल, मुन्ना भैलोनी, अजय कुमार वर्मा, प्रमोद धानुक, पुष्पेन्द्र शर्मा, नन्दराम कुशवाहा, सुरेश कुशवाहा, भगवत प्रसाद रैकवार, गंगाराम साहू, दिनेश कुशवाहा, गणेश प्रसाद, खुशाल बरार, शिखर उमरिया,कामता भट्ट, देवीलाल, नन्दू सोनी आदि उपस्थित रहे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि