प्रदेश के समस्त स्थानीय निकायों में अब तक 149923 फ्रंटलाइन वर्कर्स (सफाई कर्मचारी) का हुआ टीकाकरण- आशुतोष टंडन

नगर विकास मंत्री आशुतोष टंडन ी ने कोविड-19 के दृष्टिगत प्रदेश के आगरा, अलीगढ़ और कानपुर मण्डल के 95 नगर पंचायतों के साथ की वर्चुअल बैठक
लखनऊ, दिनांक 07 मई, 2021 नगर विकास मंत्री श्री आशुतोष टंडन जी ने कोविड-19 के दृष्टिगत प्रदेश के आगरा, अलीगढ़ और कानपुर मण्डल के 14 जिलों आगरा, मथुरा, मैनपुरी, फिरोजाबाद, अलीगढ़, हाथरस, एटा, कासगंज, कानपुर, कानपुर देहात, फर्रुखाबाद, कन्नौज, इटावा और औरैया के 95 नगर पंचायतों के मा. अध्यक्षों व अधिशासी अधिकारियों के साथ शुक्रवार को वर्चुअल बैठक की। श्री आशुतोष टंडन जी ने बताया कि प्रदेश भर में युद्ध स्तर पर सैनिटाइजेशन व सफाई अभियान चलाया जा रहा है। प्रदेश की समस्त नगर निकायों में 7 मई 2021 तक 5183 टीमों के माध्यम से 200049 स्थानों पर सैनिटाइजेशन का करवाया गया है। कोरोना संक्रमण से बचने के लिए फ्रंटलाइन वर्कर्स (सफाई कर्मचारी) दिन रात सफाई, सैनिटाइजेशन व फागिंग के कार्य में जुटे हैं। सफाई मित्र दिन दुनी रात चैगनी मेहनत कर रहे हैं। इनकी सुरक्षा के लिए अब तक 149923 फ्रंटलाइन वर्कर्स (सफाई कर्मचारी) का कोविड वैक्सीनेशन किया जा चुका है। उन्हें निरंतर सुरक्षा किट मुहैया की जा रही है साथ ही उनके वेतन व भत्तों को समय से रिलीज करने को लेकर भी सख्त निर्देश दिए गए हैं। नगर विकास मंत्री जी ने जानकारी दी कि प्रदेश की समस्त स्थानीय निकायों में अब तक प्रथम चरण में 84364 व द्वितीय चरण में 65559 फ्रंटलाइन वर्कर्स (सफाई कर्मचारी) का टीकाकरण किया गया है। दोनों चरणों के अनुसार प्रदेश की समस्त स्थानीय निकायों में 149923 फ्रंटलाइन वर्कर्स (सफाई कर्मचारी) वैक्सीनेशन किया जा चुका है। प्रदेश भर में कोविड-19 के दृष्टिगत सफाई कर्मचारियों द्वारा घरों, बाजारों व सरकारी कार्यालयों में निरंतर दिन रात सैनिटाइजेशन एवं फॉगिंग का कार्य किया जा रहा है। यहीं नहीं सफाई मित्रों द्वारा विशेष सफाई अभियान में दिन व रात दोनों समय सड़कों की सफाई, चूने का छिड़काव आदि किया जा रहा है। सफाई कर्मचारियों सिर्फ एक ही उद्देश्य है कि प्रदेश में रहने वाले नागरिकों को गंदगी से किसी भी प्रकार की बीमारी न होने पाये इसके लिए वे जी तोड मैहनत कर रहे हैं। श्री आशुतोष टंडन जी ने बताया कि प्रदेश भर में वृहद स्तर पर सैनिटाइजेशन, फागिंग व सफाई का कार्य चल रहा है। जिसमें हमारे फ्रंटलाइन वर्कर्स (सफाई कर्मचारी) दिन रात कार्य में जुटे हुए हैं। ऐसे में सफाई मित्रों की सुरक्षा का भी ख्याल रखा जा रहा है। सफाई मित्रों की सुरक्षा को देखते हुए उन्हें निरंतर सैनिटाइजर, ग्लब्ज, साबुन, पीपीई किट, मास्क आदि समय समय पर मुहैया करवाया जा रहा है। इसके लिए राज्य वित्त आयोग से मिले पैसा का उपयोग किया जा रहा है। वहीं फ्रंटलाइन वर्कर्स (सफाई कर्मचारी) के वेतन में विलंब न हो इसे लेकर निर्देशित किया गया है। वेतन ड्यूज आदि के विलंब होने पर संबंधित दोषी पर कठोर कार्रवाई की जायेगी। नगर विकास मंत्री जी ने कहा कि हर क्षेत्र खासतौर पर कंटेनमेंट जोन में सैनिटाइजेशन एवं सफाई दिन में तीन बार कराई जाए। प्रत्येक गली और वार्ड में सघन सैनिटाइजेशन किया जाए। वहीं कोरोना संक्रमित क्षेत्रों में सुबह शाम सैनिटाइजेशन किया जाए। क्षेत्र के मुख्य बजारों को चिह्नित कर वहां साफ सफाई व सैनिटाइेजशन किया जाए। संक्रमित क्षेत्रों में कूड़ा कोरोना प्रोटोकॉल से उठाया जाए। साथ ही कोविड हेल्प डेस्क पर आने वाली सूचनाओं को संबंधित विभाग को शीघ्र से शीघ्र सूचित किया जाए। साथ ही मंत्री जी ने ग्रीष्म ऋतु से पहले पेयजल की व्यवस्था को दुरुस्त करने के निर्देश दिए। इसके अलावा जल भराव वाले स्थानों को चिन्हित कर उसे दुरुस्त करने को लेकर भी निर्देशित किया। मंत्री जी ने नगर पंचायत राया (मथुरा) के अध्यक्ष श्री मनोज वर्मा, बेसवां (अलीगढ़) के अध्यक्ष श्री मुनोज कुमार कुशवाहा, कुरावली (मैनपुरी) की अध्यक्ष संगीता वर्मा, दिबियापुर (औरेया) के अध्यक्ष श्री अरविंद पोरवाल, इकदिल (इटावा) के अध्यक्ष डॉ. सौरभ दीक्षित, राजा का रामपुर (एटा) के अध्यक्ष श्री महावीर सिंह राठौर, अकबरपुर (कानपुर देहात) की अध्यक्ष श्रीमती ज्योत्सना कटियार, कमालगंज (फर्रूखाबाद) की अध्यक्ष श्रीमती प्रीती, सादाबाद (हाथरस) के अध्यक्ष श्री रविकान्त अग्रवाल से सैनिटाइजेशन, कंटेंमेंट जोन, निगरानी समितियों, कंट्रोल रूम व हेल्प डेस्क, सफाई कर्मचारियों को दी जाने वाली सामग्री पर विस्तार से चर्चा की। वर्चुअल बैठक में सचिव नगर विकास विभाग श्री अनिल कुमार एवं श्री अनुराग यादव जी, नगरीय निकाय निदेशालय की निदेशक श्रीमती शकुन्तला गौतम, विशेष सचिव नगर विकास विभाग श्री इंद्रमणि त्रिपाठी समेत तीन मण्डल की 95 नगर पंचायतों के अध्यक्ष एवं आधिशासी अधिकारियों (ईओ) जुड़े रहे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि