उत्तर प्रदेश सहित उत्तर भारत में नहीं रहेगा चन्द्रग्रहण का असर

शिवम अग्निहोत्री
ललितपुर। चंडीपीठाधीश्वराचार्य महामण्डलेश्वर स्वामी चन्द्रेश्वर गिरिजी महाराज ने बताया कि 26 मई 2021को लगने जा रहा चन्द्रग्रहण यह साल का पहला चंद्रग्रहण है। चंद्र ग्रहण की कुल अवधि 5 घंटे 2 मिनट की है। इस दौरान 14 मिनट तक पूर्ण चंद्रग्रहण रहेगा। 2 घंटे 53 मिनट तक आंशिक चंद्र ग्रहण रहेगा। इस बार का चंद्रग्रहण की अद्भुत खगोलीय घटना के समय चांद ब्लड मून सरीखा सुर्ख लाल रंग का हो जाएगा। यह चंद्र ग्रहण भारत के कुछ हिस्सों में दिखाई देगा और कुछ हिस्सों में दिखाई नहीं देगा। ग्रहण का असर उत्तर, पश्चिम व दक्षिण भागों जैसे महाराष्ट्र, पंजाब, जम्मू-कश्मीर, राजस्थान, उत्तराखंड, उ.प्र., बिहार आदि प्रदेशों में दिखाई नहीं देगा। इसके चलते यहां सूतक काल का असर भी नहीं होगा। चंद्र ग्रहण को दुनिया के कई देशों में देखा जा सकेगा। चंद्रग्रहण ऑस्ट्रेलिया, ओशिनिया, दक्षिण-पूर्व एशिया, अलास्का और अमेरिका, कनाडा, हवाई और मेक्सिको आदि देशों में आसानी से देखा जा सकेगा। उन्होंने बताया कि चंद्रग्रहण 2021 की कुल अवधि 5 घंटे 2 मिनट की बताई गई है। इस क्रम में 14 मिनट तक पूर्ण चंद्र ग्रहण रहेगा। 2 घंटे 53 मिनट तक आंशिक चंद्र ग्रहण लगेगा। यहां चंद्रग्रहण नहीं देखे जाने के कारण सूतक काल भी मान्य नहीं होगा।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा