सादगीपूर्ण आज मनायी जाएगी भगवान परशुराम जी की जयंती

अनेक ब्राह्मण संगठनों ने घर पर ही जयंती मनाने की अपील की
ललितपुर। ब्राह्मणों के आराध्य देव भगवान विष्णुजी के महाप्रतापी अवतार परशुरामजी की जयंती अक्षय तृतीया के शुभ अवसर पर पूरे जनपद में श्रद्धा भाव के साथ मनाई जाएगी। अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा, युवा महासभा, राष्ट्रीय ब्राह्मण महासंघ, ब्राह्मण महामंडल, ब्राह्मण विकास प्रतिष्ठान सहित अनेक संगठनों ने यह निर्णय लिया है कि वह अपने अपने घरों में रहकर ही भगवान परशुरामजी की जयंती श्रद्धा भाव के साथ मनाएंगे। साथ ही उन्होंने विप्रजनों से अनुरोध किया कि कोरोना महामारी का प्रकोप है, इस कारण वह धार्मिक अनुष्ठान सामाजिक दूरी बनाकर घर में ही सादगीपूर्ण तरीके से जयंती मनाएं। इस दौरान ब्राह्मण संगठनों व विप्र समाज के लोगो से अपील करते हुए कहा 14 मई दिन शुक्रवार को घर पर ही रहकर मनाये। भगवान परशुरामजी का जन्मोत्सव परशुराम जन्मोत्सव हिंदुओ का एक प्रसिद्ध त्यौहार है। यह पर्व हिन्दू कैलेंडर के अनुसार वैशाख माह के शुक्ल पक्ष के तीसरे दिन यानी तृतीया तिथि को मनाया जाता है। यह त्योहार पूरे भारत मे धूमधाम से मनाया जाता है। और इसी दिन अक्षय तृतीया का प्रसिद्ध त्योहार भी मनाया जाता है। परशुराम जन्मोत्सव के दिन उपवास के साथ साथ सर्व ब्राह्मण का जुलूस और सत्संग आदि का आयोजन किया जाता है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन किए गए पुण्य का प्रभाव कभी समाप्त नही होता है। इस दिन भगवान परशुराम जी की शोभायात्रा निकाली जाती है। तथा जगह-जगह पूजा-अर्चना का आयोजन किया जाता था मगर इस बार इस महामारी में सभी सोशल डिस्टेंसिग का पालन करते हुए भगवान परशुराम जी का जन्मोत्सव घर पर ही रहकर मनाये। अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा के अध्यक्ष लीलाधर दुबे ने कहा कि इस बर्ष कोरोना संक्रमण को देखते हुए सारे कार्यक्रम रद्द कर दिए गए हैं, विप्र समाज से विनम्र अनुरोध है कि वह घर पर ही सादगीपूर्ण तरीके से भगवान परशुराम जी की जयंती मनाएं। ताकि कोरोना की चैन टूट सके। जिला प्रभारी राममूर्ति तिवारी ने कहा कि कोरोना के चलते हम लोगों ने कई लोगों को खोया है, कोरोना से बचने के लिए हम पूरी श्रद्धा भाव से घर में ही मनाएंगे, साथ ही प्रशासन की मदद कर लाकडाउन का पालन करेंगे। युवा अध्यक्ष इन्द्रेश तिवारी ने कहा कि हमारा प्रयास रहेगा कि विप्र समाज भगवान परशुराम जी का जन्मोत्सव घर ही, पूरे विधि-विधान के साथ मनाएं, अभी महामारी अपने पैर पसार रही है, यदि उसे रोकना है तो, घर पर ही रहे। जिलाध्यक्ष प्रशांत शुक्ला ने कहा कि जागरूकता ही कोरोना वायरस की चैन तोडऩे का असली तरीका है, सामाजिक दूरी बनाए रखें, मास्क का प्रयोग करें, इसका पालन करते हुए सभी ब्राह्मण बंधुओं को उत्साह एवं सादगीपूर्ण तरीके से हमें अपने आराध्य देव की जयंती मनानी है, यदि समय अच्छा रहा तो अगली बार भव्यता के साथ कार्यक्रम आयोजित करेंगे। राष्ट्रीय सचिव श्यामाकांत चौबे ने कहा कि बढ़ती कोरोना महामारी के कारण हम समाज के लोगों लगातार जागरूक कर रहे हैं, विप्र समाज घर पर रहकर अपने आराध्य देव भगवान परशुराम जी की जयंती मनाएगा, यदि महामारी से मुक्ति मिलती है तो आगामी समय में भव्य कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। अध्यक्ष हिन्दू एकता समिति सोनू पाठक ने कहा कि जब जब देश पर संकट आया है, तब तब विप्र समाज ने कंधे से कंधा मिलाकर सहयोग किया है, हम ब्राह्मण बन्धुओं से अनुरोध करते हैं कि शासन प्रशासन का सहयोग करें और घर में सुरक्षित तरीके से सादगीपूर्ण ढंग से भगवान परशुराम जी का अवतरण दिवस मनाएं। युवा जिला प्रभारी राष्ट्रीय ब्राह्मण महासंघ भूपेंद्र सरवैया राष्ट्रीय ब्राह्मण महासंघ विप्र समाज से विनम्र निवेदन करती है कि प्रशासन द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार कोविड गाइड लाइन का पालन सच्ची निष्ठा से करें, अभी समय विपरीत है, कोरोना वायरस का प्रकोप चरम पर है, यदि हमें इसकी चैन तोडऩा है, तो अपनी समझदारी का परिचय देते हुए आज अपने घरों में भगवान परशुराम जी के अवतरण दिवस को सादगी के साथ मनाएं।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा

मंगलमय हो मिलन तुम्हारा

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?