अपने ऊपर नकारात्मक विचार ना हॉबी होने दें-डॉ अनुरुद्ध वर्मा

लखनऊ। जीवन के लिये घातक कोरोना की दूसरी लहर ने लोगों के मन में डर एवँ दहशत पैदा कर दिया है। इस दूसरी लहर के खतरे का अनुमान इससे लगाया जा सकता है कि देश में प्रतिदिन लगभग 4 लाख लोग इसस संक्रमित संक्रमित हो रहे है। देश में सारी चिकित्सा व्यवस्थाएँ चरमरा गई हैं। लोग दवाईओं, बेड, ऑक्सीजन की कमी से जूझ रहे हैं और कोरोना से मौतों का आंकड़ा काफी बढ़ गया है । इन परिस्थितियों ने लोगों में अपनी एवं अपनों के सेहत की चिंता, कंही मैं बीमार ना हो जाऊं ,बीमार हो गया तो दवा कैसे मिलेगी, बेड कैसे मिलेगा,ऑक्सीजन कैसे मिलेगी, कहीं मैं मर ना जाऊं , मेरे परिवार के साथ कोई अनहोनी न हो जाय की चिंता, ब्यापार के नुकसान की चिंता, भविष्य की चिंता सता रही है। यह रोग कब तक चलेगा के संशय ने लोगों की चिंता को और बढ़ा दिया है। बृद्ध, गंभीर रोगों से बीमार एवं कमजोर अपने स्वास्थ्य एवं भविष्य को लेकर ज्यादा चिंतित हैं और अब युवा भी इसकी गिरफ्त में आ रहे हैं इसलिए वह भी चिंतित हैं। गले में जरा सी खराश, खांसी, बुखार को होने पर उसे बेवजह कोरोना से जोड़ने लगते हैं यदि आपके आपके व्यवहार में इस प्रकार के परिवर्तन हो रहें हैं तो घबराने की जरूरत नहीं है क्योंकि इन पर नियंत्रण सम्भव है। यह कहना है वरिष्ठ होम्योपैथिक चिकित्सक डॉ अनुरुद्ध वर्मा का। उन्होंने बताया कि अपने ऊपर नकारात्मक विचार ना हॉबी होने दें।अपनी भावनाओं को लोगों से शेयर करें। खुद समझें एवं दूसरों को समझाएँ। सकारात्मक विचारों वाली पुस्तकें पढ़ें। फोन पर अपनों का हाल चाल लें एवं अपना दें, सुरुचिपूर्ण संगीत सुने, परिवारीजनों के साथ बातचीत करें, एकाकीपन ना हाबी होने दें। नियमित रूप से योग, व्यायाम ,प्राणायम एवं मैडिटेशन करतें रहें। घर की छत पर टहलें,पर्याप्त नीँद लें। तनाव मेँ धूम्रपान एवँ नशे की दवाइयों का सेवन किसी भी हालत में न करें । यदि आप थोड़ी सी सावधानी अपनायेंगे तो यह समस्याएं आसानी से सुलझ जाएंगी । कोरोना से बचाव केलिये सरकारी दिशा- निर्देशों का पालन करें, सामाजिक दूरी बनाये रखें ,हाथों को लगातार धोतें रहें,मास्क का प्रयोग करें, गुनगुना पानी पिये , जब जरूरी हो तभी घर के बाहर निकलें।उन्होने यह भी सलाह दी कि यदि आपके व्यवहार में परिवर्तन है आप विना वजह के परेशान हैं तो होम्योपैथिक चिकित्सक से सलाह लें क्योंकि होमियोपैथी में इस इस प्रकार की समस्याओं के समाधान की अनेक प्रभावी औषधियों उपलब्ध हैँ होम्योपैथिक दवाईओं की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि इनका शरीर पर कोई साइड इफेक्ट नही हैं। इस प्रकार की मानसिक समस्याओं के समाधान के लिए मोबाइल नंबर 9415075558 पर सम्पर्क कर परामर्श प्राप्त कर सकते हैं।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि