अन्नपूर्णा ऑक्सीजन बैंक से ललितपुर शहर वासियों को नि:शुल्क ऑक्सिजन की सुविधा

निशुल्क भोजन के बाद निशुल्क ऑक्सीजन की की शुरुआत संभवत 20 मई तक
ललितपुर। अन्नपूर्णा सेवा संघ द्वारा भगवान महावीर नेत्र चिकित्सालय, शाही रोड में अन्नपूर्णा ऑक्सीजन बैंक स्थापित किया जा रहा है जिसमें ललितपुर शहर के लोगों को जिला अस्पताल में या घर पर हो रही ऑक्सीजन की दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ेगा। भोपाल में रह रहे ललितपुर के संस्था के शिरोमणि संरक्षक रवि तिवारी ने अन्नपूर्णा ऑक्सीजन बैंक में 50 जंबो ऑक्सीजन सिलेंडर और 50 सिलेंडर 10 लीटर वाले ऑक्सीजन सिलेंडर और 25 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर 10 लीटर वाले अन्नपूर्णा ऑक्सीजन बैंक में देने की घोषणा की है जिसमें से 50 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर 10 लीटर के लिए उन्होंने मुंबई में बुक करके ललितपुर के लिए रवाना कर दिए हैं जिसके आते ही अन्नपूर्णा ऑक्सीजन बैंक शुरू हो जाएगा और बाकी 25 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर और 47 लीटर वाले बड़े 50 जम्बो ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्धता के अनुसार अति शीघ्र वह भिजवा देंगे। ललितपुर के रवि तिवारी जो रोज अपने किसी परिजन को कोरोना से गंभीर रूप से पीडि़त होने की खबर सुनते हैं तो उन्हें बहुत ही तकलीफ होती है और ललितपुर में ऑक्सीजन की आ रही लगातार दिक्कतों के बाद उन्होंने निर्णय लिया कि वह कुछ अपने शहर के लिए ऐसा करना चाहते हैं जिससे उनके शहर ललितपुर में किसी को ऑक्सीजन की कमी के कारण असमय मृत्यु का सामना ना करना पड़े। बताया गया कि अन्नपूर्णा ऑक्सीजन बैंक से जिले में कोरोना महामारी के चलते हुए किसी भी गंभीर मरीज की मृत्यु ना हो। शहरवासियों से अपील की गयी कि जिस तरह रवि तिवारी शिरोमणि संरक्षक ने लगभग 45 लाख की सामग्री की घोषणा कर अन्नपूर्णा ऑक्सीजन बैंक को स्थापित करने में मदद प्रदान की। इसी प्रकार अन्य नागरिकों के सहयोग की भी आवश्यकता है कि वह भी आगे आए और अन्नपूर्णा ऑक्सीजन बैंक में कंसंट्रेटर और ऑक्सीजन सिलेंडर दान देकर इस योजना को सफल बनाएं जिससे उनके अपने और शहर के जरूरतमंद लोग ऑक्सीजन के अभाव में काल का ग्रास ना बने। यह वह समय है जो आप अपनी सामथ्र्य का उपयोग करके इस महामारी में ऑक्सीजन के लिए तड़पते इलाज के लिए तड़पते व्यक्ति की मदद कर सकते हैं।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि