जिला पंचायत की बानपुर सीट पर धांधली का आरोप

सपा प्रत्याशी ने निर्वाचन आयोग को पुन: मतगणना के लिए भेजा पत्र
धरने पर बैठने की दी चेतावनी, पारदर्शिता से पुन: मतगणना करने की मांग
ललितपुर। जिला पंचायत के वार्ड संख्या 18 बानपुर से सदस्य पद की मतगणना में भारी धांधली व अनियमित्तायें बरतने के साथ-साथ एआरओ पर सत्ता पक्ष के प्रत्याशी को जबरन जिताने का आरोप लगाया गया है। यह आरोप समाजवादी पार्टी से अधिकृत प्रत्याशी हर्ष यादव ने लगाये हैं। उन्होंने सोशल मीडिया पर निर्वाचन आयोग के नाम जारी एक वीडियो संदेश में आरोप लगाये हैं कि उनके कई मत पत्रों को अस्वीकृत करते हुये अस्वीकृत पड़े मत पत्रों को सत्ता पक्ष के प्रत्याशी के पक्ष में गणना कर दी गयी। इतना ही नहीं जब वोटों की पुन: गणना के लिए लिखित पत्र दिया गया तो निर्वाचन कार्य से जुड़े अधिकारियों ने साफ इंकार कर दिया, ऐसा भी आरोप हर्ष यादव ने लगाया है। गौरतलब है कि ललितपुर की जिला पंचायत में सदस्य पद के लिए समाजवादी पार्टी ने 18 सीटों पर अधिकृत प्रत्याशियों की घोषणा की थी, जिसमें अधिकांश सीटें समाजवादी पार्टी के खाते में आ गयीं हैं। यह भी कहा जा रहा है कि ललितपुर की 21 वार्डों में जिला पंचायत की कैलगुवां सीट से सत्तापक्ष के कद्दावर नेता चुनावी मैदान में थे, जिन्हें जनता ने सीधे तौर पर नकार दिया और वह चुनाव हार गये। इसके बाद दूसरी महत्वपूर्ण सीट बानपुर रही, जिसकी मतगणना जारी थी। प्रत्याशी हर्ष यादव का आरोप है कि वार्ड के ग्राम गुगरवारा में 1 से 6 तक गांव आते हैं, जिनमें पांच गांवों की गणना कर ली गयी, लेकिन अंतिम गांव की गणना के दौरान जिसमें उनके लगभग 91 मत थे, को हटाकर अस्वीकृत करते हुये अस्वीकृत पड़े मत पत्रों को सत्ता दल के प्रत्याशी के पक्ष में गणना कर दी गयी, जिससे उन्हें पराजित करने का भरशक प्रयास किया जा रहा है। हालांकि इस मामले में उन्होंने जब पुन: मतगणना के लिए मतगणना के रिटर्निंग व सहायक रिटर्निंग ऑफीसर से पत्र लिखकर मांग की तो उन्होंने साफ इंकार कर दिया। अब सपा अधिकृत प्रत्याशी हर्ष यादव ने कहा कि पुन: मतगणना न होने की दशा में वह धरना प्रदर्शन करने को बाध्य होंगे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या