शादियों वाले घर कहीं फैला न दें कोरोना संक्रमण

गली-मोहल्लों में सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ रहीं धज्जियां
मध्य प्रदेश व अन्य जनपदों से आने वाले रिश्तेदारों की नहीं हुई जांच
ललितपुर। जहां एक ओर पूरा देश कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने का प्रयास कर रहा है तो वहीं दूसरी ओर ललितपुर शहर के कई मोहल्लों में सहालग का दौर जोर पकड़े हुये है। यहां शादी के नाम पर जमकर सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाई जा रहीं हैं। गौर करने वाली बात यह है कि इन शादियों में मध्य प्रदेश के अलावा अन्य जनपदों से आ रहे रिश्तेदारों की न तो जांच का अता-पता है और न ही इनकी बीमारियों का। ऐसे में कोरोना संक्रमण तेजी से कब पैर फैला दे इसकी संभावनायें बलवती होती नजर आ रहीं है। ऐसे में प्रशासन व पुलिस को चाहिए कि शादियों वाले घरों में बाहर जनपदों से आने वाले लोगों की प्राथमिकता पर जांच करायी जाये, ताकि मोहल्लों में संक्रमण फैलने से रोका जा सके। बताते चलें कि इन दिनों सहालग का दौर अपने चरम पर है। मई माह की आठ व नौ तारीख में वैवाहिक कार्यक्रम अधिक संख्या में आयोजित होने जा रहे हैं, जबकि 9 मई के बाद सीधे जून की 3 तारीख से फिर सहालग का दौर शुरू होगा। लिहाजा 8 व 9 मई को अधिक संख्या में शादी-विवाह कार्यक्रम होने से लोगों की भीड़ भी काफी बढ़ेगी। ऐसे में सहालग के यह कार्यक्रम कोरोना संक्रमण को बढ़ावा न दे दें। शादी विवाह में शामिल होने के लिए मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल, अशोकनगर, चंदेरी, खनियाधाना, पिछोर, शिवपुरी, सागर के अलावा उत्तर प्रदेश के झांसी क्षेत्र से भी भारी संख्या में लोग निजी या किराये के वाहनों से आवागमन कर रहे हैं। मध्य प्रदेश व उत्तर प्रदेश में इन दिनों कोरोना संक्रमण काफी तेजी से फैल रहा है। ऐसे में शादी विवाह में शामिल होने वाले मध्य प्रदेश व उत्तर प्रदेश के लोगों को क्या कोरोना संक्रमण के लक्षण हैं या नहीं। इसके लिए प्राथमिक तौर पर जांच होनी आवश्यक है। लेकिन गली-मोहल्लों में आयोजित शादी समारोहों में आये ऐसे लोगों की जांच नहीं हुयी है। इतना ही नहीं गली-मोहल्लों में होने वाले शादी समारोहों में आने वाले लोग मोहल्लों में बैठते हैं, जिनकी संख्या शासन से निर्धारित संख्या के सापेक्ष काफी अधिक होती है, जिससे सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां तो उड़ ही रहीं हैं, साथ ही कोरोना संक्रमण के फैलने का खतरा भी मोहल्लों में बरकरार है। ऐसे में स्थानीय प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग व पुलिस विभाग को चाहिए कि वह शहर के सभी वार्डों में आयोजित होने वाले शादी समारोहों वाले घरों का सम्बन्धित वार्डों के स्वास्थ्य नायकों, सफाई कर्मचारियों से चिह्नित कराते हुये अन्य प्रान्तों व गैर जनपदों से आये लोगों की कोविड जांच अवश्य करायी जाये, जिससे डर के साये में जीने को विवश मोहल्लेवासियों को कोरोना संक्रमण के फैलने के भय से निजात मिल सके। जनहित में शहरवासियों ने यह मांग उठाते हुये जिला प्रशासन से जल्द ही सख्त कदम उठाये जाने की गुहार लगायी है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि