पश्चिम बंगाल में राष्ट्रपति शासन लागू करने की मांग

भाजपा नगर कमेटी ने राष्ट्रपति के नाम डीएम को सौंपा ज्ञापन ललितपुर। हाल ही में पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव संपन्न होने के बाद वहां चुनावी हिंसा का दौर लगातार जारी है। इस हिंसा के बीच करीब 9 लोगों को अपनी जान भी गंवानी पड़ी। ऐसे में भाजपा के राष्ट्रीय नेतृत्व के आह्वान पर बुधवार को भाजपा नगराध्यक्ष मनीष अग्रवाल के नेतृत्व में महामहिम राष्ट्रपति को एक ज्ञापन भेजते हुये पश्चिम बंगाल में राष्ट्रपति शासन लागू करने की सिफारिश की गयी। राष्ट्रपति को भेजे ज्ञापन में भाजपा ने बताया कि वर्तमान में पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के नतीजों के सामने आते ही राज्य के विभिन्न हिस्सों से बड़े पैमाने पर हिंसा हो रही है जिसमें भाजपा नेताओं की चुन चुन कर हत्याएं की जा रही है। इस चुनाव में अप्रत्याशित जीत के बाद टीएमसी के समर्थकों ने जगह-जगह भाजपा पार्टी कार्यकर्ताओं पर हमले शुरू कर दिए हैं। जिसमें इस हिंसा के मामले को लेकर प्रधानमंत्री ने फोन पर राज्यपाल जगदीप धनखड़ से बातचीत में हिंसा से उपजी हालत का जायजा लिया। उन्होंने राज्य में जारी हिंसा पर गहरी चिंता जताई है। खुद राज्यपाल ने अपने एक ट्वीट में इसकी जानकारी दी है। रविवार को चुनाव के नतीजे सामने आने के बाद से ही सोशल मीडिया पर बड़े पैमाने पर हिंसा की तस्वीरों और वीडियो के साथ तमाम दावे किए जा रहे हैं। ऐसी पोस्ट और ट्वीट्स की तादाद इतनी ज्यादा है। लेकिन इससे राज्य में खासकर ग्रामीण इलाकों में भ्रम और आतंक का माहौल पैदा हो गया है। इस मुद्दे पर विवादास्पद ट्वीट की वजह से अभिनेत्री कंगना रनौत का ट्विटर अकाउंट भी सस्पेंड कर दिया गया है। हमारे बंगाल के बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष सवाल करते हैं। आखिर इतनी बड़ी जीत के बावजूद हिंसा क्यों हो रही है ? पुलिस के सामने ही हमले हो रहे हैं, लेकिन वह मूकदर्शक बनी है। अगर मुख्यमंत्री इसकी जिम्मेदारी नहीं लेती तो कौन लेगा ? बीजेपी के एक प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल से मुलाकात कर हिंसा की शिकायत करने के अलावा केंद्रीय गृह मंत्रालय को भी इस बारे में पत्र भेजा इसी कारण से उत्तर प्रदेश भाजपा द्वारा 5 मई को व्यापक हिंसा के विरोध में भाजपा द्वारा देश व्यापी धरना प्रत्येक मण्डल पर कोविड प्रोटोकोल का पालन करते हुए होना है। इसी सूचना के माध्यम से प्रदेश निर्देशानुसार नगर मण्डल भाजपा नगर अध्यक्ष मनीष अग्रवाल ने कहा है कि बंगाल में हो रही हिंसा में मारे जा रहे भाजपा कार्यकताओं के हित में टीएमसी सर्मथकों के खिलाफ व उनको संरक्षण देने वाली मुखिया ममता बनर्जी के खिलाफ जांच बैठाकर बंगाल में राष्ट्रपति शासन लगाया जाये। जिससे बंगाल में हो रही हिंसा में रोक लग जायेगी और जनता शांति से जीवन गुजार कर सकेगी। यह राष्ट्रपति शासन से देश हित राष्ट्रहित में होगा। फोटो-पी3

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि