कोरोना महामारी से लोगों की जानें जा रही हैं और अवैध शराब के कारोबारी आम आदमी की जान लेने पर है अमादा- अजय कुमार लल्लू

लखनऊ 28 मई 2021। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष श्री अजय कुमार लल्लू ने जनपद अलीगढ़ के लोधा थाना क्षेत्र के करसुआ, निमाना, हैवतपुर और अण्डला गांवों में जहरीली शराब के सेवन से हुई 11 लोगों की दुःखद मौत पर पर योगी सरकार पर हमला करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार बताये कि उसके कार्यकाल में जहरीली शराब का अवैध कारोबार किसके संरक्षण में चल रहा है और जहरीली शराब पीने से हुई मौतों का कौन जिम्मेदार है? लगातार मौतें हो रही हैं, आखिर किन लोगों के दबाव में शराब के अवैध कारोबारियों पर कार्यवाही नहीं हो रही है? प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष श्री अजय कुमार लल्लू ने कहा कि कोरोना महामारी में आम जनता अव्यवस्था और इलाज, दवाई के अभाव में जहां अपनी जान गंवा रहे हैं वहीं भारतीय जनता पार्टी की सरकार आपदा में विभिन्न प्रकार के अवसर तलाश रही है। उसी नक्शेकदम पर चलते हुए अपराधी भी आपदा में अवसर तलाशकर अवैध जहरीली शराब का खुलेआम धंधा कर रहे हैं और सरकार में बैठे लोग आंख मूंदे हुए है। श्री अजय कुमार लल्लू ने कहा कि योगी सरकार पूरी तरह आम जनता के प्रति संवेदनहीन बनी हुई है और प्रदेश में जहरीली शराब कारोबारियों के विरुद्ध कार्यवाही करने के स्थान पर उन्हें संरक्षण देती हुई दिखायी दे रही है। उन्होंने कहा कि सरकार बताये कि उसके और जहरीली शराब माफियाओं के मध्य क्या सम्बन्ध हैं? आखिर क्या वजह है कि अवैध शराब के कारोबारियों पर लगाम नहीं लगा रहे हैं। अवैध शराब कारोबारी और शराब माफिया दिनों-दिन फल-फूल रहे हैं और आम जनता जान गंवाने पर मजबूर है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने इसके पूर्व आजमगढ़, अम्बेडकरनगर में जहरीली शराब पीने से हुई मौतों का उदाहरण देते हुए कहा कि अलीगढ़ में हुई मौतें बहुत ही दुःखद हैं। उन्होने कहा कि प्रदेश की योगी सरकार द्वारा जहरीली शराब के कारोबारियों के विरुद्ध कार्यवाही न करना यह साबित करता है कि कहीं न कहीं जहरीली शराब का कारोबार करने वाले मौत के सौदागरों को सरकार का संरक्षण मिला हुआ है। उन्होने कहा कि योगी सरकार ने यदि पूर्व में हुईं जहरीली शराब से मौतों को लेकर संवेदनशील होती और अवैध शराब कारोबारियों पर सख्त कार्यवाही की गयी होती तो आज अलीगढ़ में हुईं मौतों को रोका जा सकता था। उन्होंने कहा कि सरकार शराब माफियाओं को बचाने और लीपापोती करने के बजाय उनके विरुद्ध सख्त कार्यवाही करे। जिस प्रकार प्रदेश में अवैध शराब से लोगों की जानें जा रही हैं। नैतिकता के आधार पर उ0प्र0 की योगी सरकार के आबकारी मंत्री को तत्काल त्यागपत्र दे देना चाहिए।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा