अभाविप कोलकाता कार्यालय पर ममता बनर्जी के गुंडों का हिंसक हमला

डा पुनीत कुमार द्विवेदी
विधानसभा चुनावों के परिणाम आने के तुरंत बाद से पूरे बंगाल में तृणमूल कांग्रेस की हिंसक प्रवृत्ति और गुंडागर्दी खुलेआम देखने को मिल रही है। रविवार (पिछले कल) से ही ममता बनर्जी के गुंडे विरोधियों को चिन्हित कर उनपर बम फेंकने से लेकर तमाम तरीकों से पूरे प्रदेश में अराजकता का माहौल बना रहे हैं। आज तृणमूल के 15-20 गुंडों ने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद, कोलकाता में स्थित प्रांत कार्यालय पर हमला करते हुए वहाँ मौजूद कार्यकर्ताओं से गाली-गलौज, मारपीट एवं तोड़फोड़ की। कार्यालय में मौजूद अभाविप कार्यकर्ताओं राष्ट्रीय सह-संगठन मंत्री श्री श्रीनिवास, क्षेत्रीय संगठन मंत्री श्री गोविंद, सह-क्षेत्रीय संगठन मंत्री श्री अपांशु शेखर शील, केंद्रीय कार्यसमिति सदस्य श्री सुमनचंद्र दास तथा 5-6 अन्य कार्यकर्ताओं से मारपीट करते हुए तृणमूल कांग्रेस के गुंडों ने कार्यालय में रखी माँ काली तथा हनुमान जी की प्रतिमा को फेंक कर उन्हें क्षतिग्रस्त कर दिया। इसके साथ ही रविन्द्र नाथ टैगोर, श्यामा प्रसाद मुखर्जी, सुभाष चंद्र बोस एवं अन्य महापुरुषों की तस्वीरों को भी इन गुंडों ने लात से मार मार कर क्षतिग्रस्त कर दिया। जोर जोर से धमकी देते हुए ममता बनर्जी के गुंडों ने मुख्यमंत्री का नाम लेते हुए कहा कि ममता बनर्जी की हार से उनके मुँह पर कालिख पुती है तथा इसके लिए जिम्मेदार और ममता के विरोध में खड़े होने वाले गद्दार हैं, ऐसे किसी भी गद्दार को अब बंगाल में नहीं रहने दिया जाएगा। लगभग एक बजे दोपहर में 15-20 मिनट तक चले इस तांडव की तैयारी में तृणमूल कांग्रेस के गुंडे कल से ही लगे थे तथा रात में लगभग 150 ऐसे लोगों को बाइक से अभाविप प्रांत कार्यालय के बाहर उपद्रव करते देखा गया था। प्रेस विज्ञप्ति लिखे जाने तक भी 100 से अधिक ममता के गुंडे अभाविप कार्यालय के आसपास घेराबंदी कर खड़े हैं, जिसकी जानकारी स्थानिक कार्यकर्ताओं ने दी। अभाविप की राष्ट्रीय महामंत्री निधि त्रिपाठी ने कहा, "तृणमूल के गुंडों द्वारा अभाविप कार्यालय पर हुए हिंसक हमले में हमारे प्रमुख कार्यकर्ता सुरक्षित हैं, लेकिन जिस प्रकार का हिंसक व्यवहार मुख्यमंत्री तथा उनके गुंडों द्वारा विधानसभा चुनावों के परिणाम के बाद से दिखाया जा रहा है वह अत्यंत निंदनीय है। आने वाले समय में अपनी सुरक्षा का ध्यान रखते हुए एकजुट रहकर तथा हर परिस्थिति में हमें राष्ट्रवाद की मशाल को जलाए रखना है। आने वाले समय में बंगाल में परिस्थितियाँ कैसी होने वाली हैं इसका उदाहरण ममता और उनके गुंडों ने पेश कर दिया है, हमें लंबे संघर्ष के लिए तैयार रहना होगा।"

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि