वर्तमान पत्रकारिता तलवार की धार पर चलने जैसा

हमीरपुर। हिंदी पत्रकारिता दिवस के अवसर पर जिला प्रेस क्लब ने स्व.गणेशशंकर विद्यार्थी जी के चित्र पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि देते हुए सादगी के साथ मनाया। इस मौके पर आयोजित विचार गोष्ठी में वक्ताओं ने अपने अपने विचार रखे और वर्तमान में पत्रकारिता को तलवार की धार पर चलने जैसा बताया। रविवार को हिंदी पत्रकारिता दिवस के अवसर पर जिला परिषद परिसर में स्थित दैनिक रुद्राक्ष कार्यालय में संपादक रामशरण दीक्षित की अध्यक्षता में विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया। इस मौके पर स्व. गणेश शंकर विद्यार्थी जी के चित्र पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धांजलि दी गई। साथ ही हिंदी पत्रकारिता के जनक पंडित जुगुलकिशोर शुक्ला को याद किया गया। 195 वर्ष पूर्व कानपुर के निवासी जुगुल किशोर शुक्ला ने सन 1826 में कलकत्ता से उदन्त मार्तण्ड हिंदी साप्ताहिक समाचार पत्र का प्रकाशन का श्रीगणेश किया था। इसी परिप्रेक्ष्य में आज इस मौके पर कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे दैनिक रुद्राक्ष के संपादक रामशरण दीक्षित ने कहा कि वर्तमान में पत्रकारिता का कार्य मुश्किल भरा हो गया है। सकारात्मक बिंदुओं को अगर खबर में शामिल किया जाय तो विकास में अहम भूमिका निभा सकते है। उन्होंने  कहा कि संगठन बहुत मजबूत होना चाहिए। पत्रकार को भी संवैधानिक पदों में आना चाहिए। इसके लिए एकजुट होकर चुनावों में भाग लेना चाहिए। मुख्य वक्ता के रूप में ग्रामीण पत्रकार एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष गणेश सिंह विद्यार्थी ने कहा कि  पहले पत्रकारिता एक मिशन था। लेकिन अब समय के साथ व्यवसायिक हो गया है। निष्पक्षता में कहीं न कहीं कमी आई है। मीडिया समूहों में अलग अलग तरह से पत्रकारिता करने का चलन है। जबकि पत्रकार समाज निर्माण करने की क्षमता रखता है। कार्यक्रम का संचालन करते हुए जिला प्रेस क्लब के महामंत्री मुनीर खान ने कहा कि मौजूदा समय में पत्रकारिता तलवार की धार पर चलना जैसा है। निष्पक्षता के साथ पत्रकारिता करना बड़ा मुश्किल कार्य हो गया है। इस मौके पर वरिष्ठ पत्रकार महेश अवस्थी, हरिशंकर गुप्ता व अजय सिंह की कोरोना के चलते निधन होने पर उनकी दिवंगत आत्मा को चिर शांति प्रदान करने के लिए दो मिनट का मौन रखकर श्रद्धा सुमन अर्पित किया गया। कार्यक्रम में विनोद शुक्ला, नीरज शर्मा, लवलेश यादव, हरिओम धुरिया, सुमित कुमार आदि मौजूद रहे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या