विशाल निशुल्क एंटीबॉडीज व ब्लड ग्रुप परीक्षण शिविर आज

अन्नपूर्णा संस्था के उपाध्यक्ष बॉबी सरदार ने रक्तदान किया जिला अस्पताल में प्लाज्मा निकालने की और एंटीबॉडी जांच करने की मशीन मंगाई जाए ललितपुर। भगवान महावीर नेत्र चिकित्सालय में 6 मई दिन गुरुवार को दोपहर 1 बजे से शाम 5 बजे तक अन्नपूर्णा सेवा संघ द्वारा निशुल्क एंटीबॉडीज एवं ब्लड ग्रुप परिक्षण शिविर लगाया जा रहा है। बताया गया है कि आज के महामारी के दौर में ऐसा कोई घर अछूता नहीं है जिसके घर में कोई ना कोई संक्रमित नहीं हुआ हो और हर दूसरे घर में या उसके किसी निकट रिश्तेदारी में लोग कोरोना महामारी से बच नहीं पा रहे हैं और उसमें मृत्यु हो रही है। ऐसे में डॉक्टरों द्वारा प्लाजमा थेरेपी एक ऐसा उपाय बताया है जो कोरोना के गंभीर मरीजों को कोरोना से लडऩे में मदद करता है, जिन मरीजों के फेफड़ों में कोरोना वायरस है और उनकी ऑक्सीजन लेवल कम हो जाता है तो डॉक्टर उनकी इम्युनिटी कम होने के कारण जो व्यक्ति कोरोना से जंग जीत चुका है। उसकी एंटीबॉडीज मरीज के शरीर में पहुंचा देता है जिससे ठीक हुए डोनर की एंटीबॉडीज मरीज के शरीर में पहुंचकर उसको ताकत प्रदान करती है और वह जल्द स्वस्थ हो जाता है। इस प्रकार प्लाजमा थेरेपी 50 परसेंट से अधिक लोगों पर कार्य कर रही है, जिसके बढ़ावा देने के लिए अन्नपूर्णा सेवा संघ द्वारा सफल प्रयास जारी है और लगभग 25 प्लाज्मा डॉनर ने लगभग 35 लोगों को कोरोना से लडऩे के लिए एंटीबॉडीज प्रदान की जिसमें लगभग 20 लोगों की जान बचाई जा सकी है। और एक डोनर 15 दिन बाद पुन: प्लाज्मा डोनेट कर सकता है ऐसे में प्लाज्मा डोनर तैयार करने के लिए भगवान महावीर नेत्र चिकित्सालय में अन्नपूर्णा सेवा संघ द्वारा निशुल्क एंटीबॉडीज परीक्षण शिविर लगाया जा रहा है जिससे एंटीबॉडीज अच्छी मात्रा में निकलने पर वह प्लाज्मा डोनेट कर सके और जब वह अपना प्लाज्मा देने जाए तो एंटीबॉडीज जांच में जो 2 से 3 घंटे लगता है। उनके उस समय की बचत हो और पहले से उसे पता हो कि उसकी शरीर में कितनी एंटीबॉडी है और जिन को कोरोना नहीं हुआ है। वह भी अपना प्लाज्मा डोनेट कर सकते हैं अगर वह बीच में बीमार हुए हैं उनको सर्दी जुखाम हुआ हो और उन्हें पता ही ना चला हो कि उनको कोरोना हुआ है लेकिन एंटीबॉडीज की जांच कराने के बाद यह पता चल जाएगा कि उनको पूर्व में कोरोना हुआ था या नहीं। आज अन्नपूर्णा सेवा संघ के उपाध्यक्ष जगजीत सिंह बॉबी सरदार ने डॉ राजेंद्र प्रसाद की बिटिया कुमारी ईशा सिंह को रक्तदान किया। अन्नपूर्णा सेवा संघ ने जिला प्रशासन से मांग की की अब जब कोविड-19 ललितपुर में बन चुका है तब प्लाज्मा निकलवाने के लिए झांसी जाना पड़ रहा है जबकि मरीज भी ललितपुर में है और प्लाज्मा डोनेट करने वाला भी ललितपुर में है लेकिन प्लाज्मा को निकलवाने के लिए झांसी जाना पड़ता है अत: इस प्रक्रिया को पूरा करने के लिए एंटीबॉडीज जांच करने की मशीन और प्लाज्मा निकालने की मशीन तत्काल प्रभाव से ललितपुर में लगवाई जाए जिससे काफी समय बचेगा और इमरजेंसी के में वेंटिलेटर के मरीज और ऑक्सीजन के मरीजों की जान बचाई जा सकती है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि