पंचायत चुनावों में नागरिक एकता पार्टी के समर्थित उम्मीदवारों को मिले जन समर्थन से कार्यकर्ताओं में भारी उत्साह

लखनऊ, कोविड जैसी महामारी के दौर में एकता, मानवता व स्थानीय समस्याओं को मुद्दा बनाकर इस बार पार्टी समर्थित उम्मीदवार झंडा बैनर के साथ मैदान में उतरे स्पष्ट बहुमत तो नहीं मिला लेकिन लोगों ने सम्मान जनक वोट देकर यह साबित कर दिया कि 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव में हम पार्टी के परचम को लहरायेंगे, पार्टी के संरक्षक राम बहादुर रावत व अध्यक्ष मो० शमीम ने बधाई देते हुए कहा कि आने वाला कल नागरिक एकता पार्टी का है और वह जरूर जनता के प्यार व समर्थन से सरकार में भागीदारी तय करगी | वही सत्ताधारी पार्टी लोकतान्त्रिक षड़यंत्र करने से बाज नहीं आ रही है आज जब मानवता की सेवा व देश को एकजुट करने का समय हो तब भी उस पार्टी के लोग सांप्रदायिकता व जातिवादी राजनीति से बाज नहीं आ रहे हैं, जब कि प्रदेश की जनता ने पंचायत चुनाव में भाजपा को बड़े पैमाने पर नकार दिया है, अब समय आ गया है कि लोग साम्प्रदायिकता व जातिवादी वाली पार्टियों को नकार कर, एकता व मानवतावादी की नीति पर चुनाव लड़ने वाली नागरिक एकता पार्टी का साथ दें |

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि