जिलाधिकारी ने जिला अस्पताल का किया औचक निरीक्षण

ललितपुर। जिलाधिकारी अन्नावि दिनेशकुमार ने जिला चिकित्सालय, ललितपुर का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के पूर्व चिकित्सालय के रैनबसेरा में अन्नपूर्णा सेवा संघ की ओर से 40 ऑक्सीजन सिलिंडर मरीजों के उपयोगार्थ भेंट किये गए। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने उक्त स्वयंसेवी संस्था को धन्यवाद देते हुए कहा कि हमारी लापरवाही की वजह से कोरोना की तीसरी लहर आने की संभावना है, हमारे द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क का प्रयोग न किया जाना इसका प्रमुख कारण है। इसलिए मेरी सबसे अपील है कि सभी जनपदवासी अनिवार्य रुप से कोविड गाइडलाइन का पालन करें, जिससे संक्रमण की रोकथाम हो सके और आपके द्वारा कोई दूसरा संक्रमित न हो सके। उन्होंने कहा कि जनपद में वर्तमान में 24 वेंटिलेटर क्रियाशील है, लगभग 500 निगरानी समितियां कार्य कर रहीं है, जिनमें आशा, आंगनबाड़ी कार्यकत्रियां, ग्राम प्रधान, सचिव व लेखपाल ग्रामीण स्तर पर कार्यरत हैं, जो अस्वस्थ व संक्रमित लोगों को दवाई की किट उनके घर पर उपलब्ध करा रहीं हैं। लोगों को कोविड टीकाकरण के बारे में जो भ्रान्ति है, वह गलत हैं। कोविड टीकाकरण कराकर आप संक्रमण से बच सकते हैं। मौके पर जिलाधिकारी ने रैनबसेरा में असहाय लोगों को भोजन परोसकर उन्हें भोजन कराया, साथ ही कोविड संक्रमण के प्रति सचेत रहने की सलाह भी दी। इसके उपरान्त जिलाधिकारी ने जिला चिकित्सालय में प्रथम तल एवं द्वितीय तल पर स्थित कोविड-19 प्रिजम्पिटव वार्ड/बच्चा वार्ड का निरीक्षण किया। यहां पर उन्होंने बंद पड़े पट्टी कक्ष को खुलवाकर देखा, साथ ही प्रत्येक वार्ड में जाकर साफ-सफाई, बेड की स्थिति, शौचालय व अन्य व्यवस्थाओं का जायजा लिया। उन्होंने निर्देश दिये कि प्रत्येक बेड पर साफ बेडशीट बिछायें, साथ ही वार्ड में नियमित रुप से सफाई करायें। मौके पर उन्होंने चिकित्सकों की ड्यूटी के बारे में भी जानकारी ली। इसके उपरान्त जिलाधिकारी ने कोविड टीकाकरण, ऑक्सीजन सिलिंडर व दवाओं की उपलब्धता के बारे में जानकारी ली, जिस पर बताया गया कि चिकित्सालय में पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन सिलिंडर व दवाएं उपलब्ध हैं। मौके पर उन्होंने वार्ड के शौचालय के सामने बंद कक्ष को खुलवाकर देखा, जिसमें निष्प्रयोज्य सामग्री रखी हुई थी, इस पर उन्होंने निर्देश दिये कि इस सामग्री को निष्प्रयोज्य कराते हुए नीलामी करायें व चिकित्सालय के संसाधनों में वृद्धि करें। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी अनिल कुमार पाण्उेय, अपर जिलाािकारी वि./रा.अनिल कुमार मिश्र, अपर जिलाधिकारी न्यायिक रजनीश राय, अपर जिलाधिकारी नमामि गंगे लवकुश त्रिपाठी, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा.डी.के.गर्ग, प्र.मुख्य चिकित्सा अधीक्षक पुरुष डा.हरेन्द्र सिंह चौहान सहित चिकित्सालय के अन्य चिकित्सक एवं स्टाफ मौजूद रहा।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा