कोविड से मौत का कारण प्रमाण पत्र पर स्पष्ट अंकित किया जाये

समाजवादी व्यापार सभा ने मुख्यमंत्री को भेजा ज्ञापन ललितपुर। वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण की चपेट में आने के बाद मृत्यु होने पर दिये जा रहे मृत्यु प्रमाण पत्र पर कोरोना से मृत्यु को अंकित न किये जाने का आरोप लगाते हुये समाजवादी पार्टी जिलाध्यक्ष तिलक यादव के नेतृत्व में व्यापार सभा जिलाध्यक्ष प्रदीप जैन चिगलौआ व नगराध्यक्ष राजेश झोजिया ने संयुक्त रूप से एक ज्ञापन मुख्यमंत्री को भेजा है। ज्ञापन में बताया कि कोविड-19 की महामारी से पूरा देश विशेषकर उत्तर प्रदेश दहशत में है। बैड व ऑक्सीजन के अभाव में लोगों की मृत्यु व नदियों में तैरती लाशों के भयावह मंजर शायद ही कोई भुला सकेगा। लगभग हर व्यापारी परिवार इस बार कोविड की दूसरी लहर से संक्रमित हुआ है। ऐसे में हर शहर, जिले एवं ग्रामीण क्षेत्र से लगातार मामले सामने आ रहे हैं। जिनकी मृत्यु कोरोना संक्रमण की चपेट में आने से हुई और उनका उनके अस्पताल के डिस्चार्ज प्रमाण पत्र में मौत का कारण कोविड-19 न लिखकर बीमारी लिखा जा रहा है। नगर निगम एवं स्थानीय पंचायत से जारी होने वाले प्रमाण पत्र में भी मौत का कारण कोविड-19 नहीं दिखाया जा रहा है। ताकि मौत का आंकड़ा कम दिखाया जा सके। जबकि मृतक का अंतिम संस्कार भी कोरोना प्रोटोकोल के अनुरूप हुआ है। इसकी वजह से मृतक के परिजनों को बीमा व संभावित मुआवजे में बड़ी समस्या का सामना करना पड़ रहा है। कई कानूनी पहलू भी इस गलत प्रमाण पत्र की वजह से प्रभावित होते हैं। समाजवादी व्यापार सभा लगातार सरकार से हर मृतक व्यापारी के परिवार के लिए 10 लाख मुआवजे की मांग कर रही है। ऐसे में प्रमाण पत्र में मृत्यु का कारण कोविड-19 अंकित न होने की वजह से उनके परिजन कोरोना से मरने वालों को मिलने वाली सुविधा से वंचित रह जायेंगे। उन्होंने मांग उठाते मुख्यमंत्री से तत्काल सभी जिलाधिकारियों को निर्देशित किये जाने का आह्वान किया, कि कोविड संक्रमण से होने वाली मृत्यु को प्रमाण पत्र में भी अंकित किया जाये। ज्ञापन पर महासचिव अभिषेक सिंघई, महेन्द्रसिंह दिया, संतोष खजुरिया, माहताब खड़ोबरा, सुनील भैया, दीपक जैन, अजय पहलवान, पवन तिवारी, राजेश बल्ली आदि मौजूद रहे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या