केंद्र व राज्य सरकारो ने किसान को ठगने का किया काम : पंडित शेखर दीक्षित

राष्ट्रीय किसान मंच आगामी विधान सभा चुनाव में प्रदेश की सभी 403 विधान सभा सीट पर किसान को चुनाव लडवाएगा सरकार पूँजीपतियों को लाभ पहुँचाने के उद्देश्य से किसानो की कर रही है अनदेखी
लखनऊ। राष्ट्रीय किसान मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष पंडित शेखर दीक्षित ने केंद्र व राज्य सरकार पर किसान को ठगने का आरोप लगाते हुए कहा कि किसान अब अपनी तकदीर खुद लिखेगा। इसके लिए मंच आगामी विधान सभा चुनाव में प्रदेश की सभी 403 विधान सभा सीट पर किसान को चुनाव लडवाएगा।संगठन ने आगामी 3 महीने में 1 करोड नए सदस्य बनाने का लक्ष्य रखा है जिसके लिए युद्ध स्तर सदस्यता अभियान चलाया जाएगा।जब किसान देश की विधानसभा और लोक सभा में बैठेगा तब ही केवल उसको उसका हक़ मिल पाएगा । प्रान्तीय कार्यालय इन्दिरा नगर में आज राष्ट्रीय किसान मंच की उत्तर प्रदेश कार्यसमिति के सदस्यों की बैठक की अध्यक्षता करते हुए उन्होंने कहा कि वर्तमान की भारतीय जनता पार्टी सरकार किसान हितों के बजाए पूंजीवादियों को फ़ायदा पहुँचाने का काम कर रही है। पिछले 7 महीनों से अधिक समय से किसान दिल्ली में किसान बिल का विरोध कर रहा है पर सरकार पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाने के उद्देश्य से उनकी अनदेखी कर रही है। उत्तर प्रदेश में भी भाजपा सरकार ने जितने वायदे किसानों से 2017 के चुनाव में किए थे वो सभी झूठे साबित हुए हैं। मुख्यमंत्री का गन्ना किसान को 10 दिन में भुगतान का वायदा भी जुमला ही निकला है। किसानों को उर्वरक से लेकर बीज तक सब कुछ महँगा मिल रहा है। इसके बाद भी फसलों का मूल्य बहुत ही कम मिल रहा है तो किसान कैसे अपना गुजारा कर सकता है । प्रधानमंत्री की किसान की फसल का मूल्य दो गुना करने की बात हवा हवाई निकली है। ऐसे हालात में किसान विरोधी सरकार को सत्ता से बाहर करना तथा किसान के द्वारा सत्ता की बागडोर अपने हाथ में लेना जरूरी हो गया है। इसके लिए अब किसानों को खुद राजनीति में उतर कर राजनैतिक दलों को किसान की असल ताक़त का एहसास कराना होगा ।समय आ गया है कि किसान अपने हक़ों के लिए लामबंद हो ।विपक्ष को आगे हाथ लेते हुए उन्होंने कहा कि किसान ने सपा बसपा कांग्रेस की सरकारे देखी हैं। उनके सुर भी सत्ता में आने पर बदल जाते हैं। राजनीतिक दल सत्ता पाने के बाद किसनों को भूल जातें है। उन्होंने कहा कि मंच आगामी चुनाव में उत्तर प्रदेश की सभी 403 सीटों पर चुनाव भी लड़ेगा। इसका रोड मैप जल्द ही सभी के सामने होगा। बैठक में मुख्य रूप से मोहम्मद इस्माइल (उन्नाव) से, सरदार सुरेंद्र पाल सिंह बक्शी ,(लखनऊ) से ,अनिल चौबे (आज़मगढ़ ) से , कुमारी ऋचा (लखनऊ) से ,संजय दिवेदी (लखनऊ ) से वेद प्रकाश शास्त्री (सीतापुर) से , सर्वेश पाल (उन्नाव )से , आशीष दुबे (ओरैया ) से बाबा (हरदोई ) से , पवन दुबे (इलाहाबाद) से ,मोहित कुमार मिश्रा (सीतापुर) से ,मोहम्मद इमरान (गोरखपुर) से , शिव करण सिंह (बनारस ) से ,मधु पाण्डेय (सीतापुर ) मँजू शर्मा (ग़ाज़ियाबाद ) से कुमारी प्रिया (आगरा) से ,ओंकार नाथ (बहराइच) से व अन्य साथी गण मौजूद रहे ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि