पुस्तक बैंक का हुआ शुभारंभ

संस्था सदस्यों ने मोबाइल नम्बर किये जारी
ललितपुर। समाजसेवा के क्षेत्र में जनपद की अनेक स्वयंसेवी संस्थाएं विगत कई वर्षों से कार्यरत हैं। इनमें ही कौमी एकता समिति जो रक्तदान, मेधावी छात्र-छात्राओं, वरिष्ट समाजसेवियों, स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों, शिक्षक आदि का सम्मान, त्योहारों पर गरीब मजदूर वर्ग के लोगों को भोजन आदि सहायता, प्रत्येक वर्ष 15 से 20 बच्चों को निशुल्क कोचिंग शिक्षा उपलब्ध कराने का कार्य करती आ रही है।विगत दिवस समिति द्वारा पुस्तक बैंक का शुभारंभ तालाबपुरा स्थित कार्यालय पर किया गया। इसमें मुख्यअतिथि महिला पार्षद आशा श्रीवास्तव व विशिष्ट अतिथि काव्या सत्येंद्र प्रताप सिंह रहीं। संचालन समिति के संरक्षक आचार्य लक्ष्मीनारायण विश्वकर्मा ने किया। पुस्तक बैंक के शुभारंभ के दौरान मुख्य अतिथि आशा श्रीवास्तव ने अपने सम्बोधन में कहा कि कौमी एकता समिति समाजसेवा के क्षेत्र में अपना महत्वपूर्ण योगदान दे रही है। पिछले कई वर्षों से समिति निस्वार्थ भाव से शिक्षा व चिकित्सा के साथ-साथ भोजन सामग्री आदि जरूरत मंदो तक पहुंचा रही है। समिति ऐसे ही समाजसेवा के क्षेत्र में नए कीर्तिमान स्थापित करे। विशिष्ठ अतिथि काव्या सिंह ने कहा कि पुस्तक बैंक से बच्चों को शिक्षा सुविधा के साथ-साथ उनके अभिभावकों को भी आर्थिक राहत मिलेगी। हम अपने बच्चों को पिछली कक्षा की पुस्तकों को रद्दी में बेच देते हैं। समिति द्वारा इन पुस्तकों को लेकर दूसरे बच्चों को दिया जाना पुण्य का कार्य है। इससे अभिभावकों के हजारों रूपए बचेगें। वर्तमान में प्राइवेट विद्यालयों के संचालकों को यह संकल्प लेना चाहिए कि वह अपने स्कूलों के पाठ्यक्रम में हर साल परिवर्तन न करें, ताकि पुस्तकों का दोबारा उपयोग हो सके। समिति के अध्यक्ष परवेज पठान ने समस्त अभिभावकों से अपील की है कि वह अपने बच्चों की पुरानी पुस्तकें बुक बैंक में दान करें। अभिभावकों को पुस्तकें बुक बैंक तक पहुंचने में परेशानी न हो इसके लिए समिति ने अपने सदस्यों के मोबाइल नंबर भी जारी किए हैं। मोबाइल नंबर 7007276137, 9305276120, 9198112947 व 9506762699 पर संपक करके घर बैठे ही पुस्तकें दान व प्राप्त कर सकते हैं। इस अवसर पर अध्यक्ष परवेज पठान, लक्ष्मीनारायण विश्वकर्मा, धर्मेंद्र श्रीवास्तव, डा.तेजस्व, राजेश झा, सुखप्रीत सिंह काकू, दीपक नामदेव, मकबूल राइन, असलम मंसूरी हनुमत, गौरव विश्वकर्मा, आयुष सैनी, मुजामिल पठान, कैफी पठान, दीपक सेन आदि उपस्थित रहे। आभार उपाध्यक्ष सुरेन्द पाल रिंकू ने व्यक्त किया।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या