राष्ट्रीय कामधेनु आयोग का २१ जून को वर्चुअल सेमिनार

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह , मंत्री प्रताप सारंगी और संजीव बालियान होंगे मुख्य अतिथि
मुंबई - राष्ट्रीय कामधेनु आयोग , भारतीय जीव जन्तु कल्याण बोर्ड , मत्स्यपालन ,पशुपालन और डेयरी मंत्रालय ,भारत सरकार , ( पशुपालन और डेयरी विभाग ) तथा '' गऊ भारत भारती '' के संयुक्त आयोजन में एक वर्चुअल राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन दिनाँक २१ जून को सुबह ११ .३० बजे से आयोजित किया गया है। जिसमे मुख्य अतिथि श्री गिरिराज सिंह , ( केंद्रीय मंत्री मत्स्यपालन, पशुपालन एवं डेयरी , भारत सरकार ) तथा विशेष अतिथि श्री प्रताप सारंगी , ( केन्द्रीय राज्यमंत्री , मत्स्यपालन, पशुपालन एवं डेयरी , भारत सरकार ) श्री संजीव बालियान ( राज्यमंत्री ,मत्स्यपालन, पशुपालन एवं डेयरी , भारत सरकार ) भाग लेंगे। सेमिनार का विषय '' गौशालाओं का सतत प्रबंधन और गाय के गोबर में परिप्रेक्ष्य में बर्बादी से आबादी की तरफ बढ़ता ग्रामीण भारत '' है जिसमे प्रमुख वक्ताओं में डॉ. महेंद्र कुमार गर्ग ( पीएचडी , तकनीकी सलाहकार राष्ट्रीय कामधेनु आयोग भारत सरकार ) डॉ अंबुज, ( बरुनी डेयरी, बिहार राज्य ) डॉ. संतोष सहाने ( पीएचडी, पूर्व सीईओ भाग्यलक्ष्मी डेयरी FYM, सलाहकार- कृषि व्यवसाय विकास ) श्री राजेश मेहता ( प्रमुख ट्रस्टी गौ रक्षक सेवा ट्रस्ट मुम्बई ) आदि है। इस वर्चुअल सेमिनार में केंद्रीय मंत्री श्री गिरिराज सिंह द्वारा मुम्बई से भाग लेने वाले युवाओ को गौ वंश सुरक्षा और पर्यावरण के रक्षा के लिए शपथ दिलवाया जायेगा। राष्ट्रीय कामधेनु आयोग के तकनीकी सलाहकार डॉ महेंद्र कुमार गर्ग ने बतया कि - देश भर की गौशाला और इस विषय से सम्बंधित सैकड़ो लोग इस वर्चुअल सेमिनार में जुड़ रहे है। वर्चुअल सेमिनार के प्रमुख राष्ट्रीय कामधेनु आयोग के निदेशक डॉ. विनोद भट्ट ने बतया कि - ' आयोग सतत प्रयास रत है कि हम भारत की समस्त गौशाला को स्वालम्बन की ओर बढ़ाए और सरकार द्वारा निर्धारित सहायता गौवंश के रक्षण और संवर्धन में लगे संस्थाओ को पहुंचाया जाये। २१ जून २०२१ को होने जा रहे वर्चुअल सेमिनार के प्रमुख मार्गदर्शक श्री अतुल चतुर्वेदी ( सचिव , मत्स्यपालन, पशुपालन एवं डेयरी , भारत सरकार ) डॉ. ओ .पी . चौधरी ( अध्यक्ष भारतीय जीव जन्तु कल्याण बोर्ड ) है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा

मंगलमय हो मिलन तुम्हारा

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?