टीकाकरण के बाद भी कोविड प्रोटोकाॅल का पालन अवश्य करें - अमित मोहन प्रसाद

लखनऊ: 31 मई, 2021 अपर मुख्य सचिव ‘सूचना’ श्री नवनीत सहगल ने बताया कि मुख्यमंत्री जी द्वारा प्रदेश में 3 टी के अन्तर्गत एग्रेसिव टेस्ट, ट्रैक और ट्रीट का अभियान चलाया जा रहा है। 3 टी के तहत प्रदेश में टेस्टिंग बढ़ाने, आॅक्सीजन बेडों की संख्या बढ़ाने, आंशिक कफ्र्यू तथा वैक्सीनेशन पर कार्य किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री के नेतृत्व में 3 टी अभियान के तहत घर-घर जाकर उनका हालचाल जाना गया और जहां पर कोविड-19 के लक्षण दिखायी पड़े उनका एंटीजन टेस्ट कराया गया अगर उसमें निगेटिव आये फिर भी उनका आर.टी.पी.आर. टेस्ट भी कराया जा रहा है तथा उनको लगभग 05 लाख से अधिक मेडिकल किट भी उपलब्ध करायी गयी। आर.टी.पी.आर. टेस्ट की संख्या लगातार बढ़ायी गई लगभग 3 से 3.5 लाख आरटीपीसीआर टेस्ट की संख्या रखी गयी है। 31 मार्च, 2021 से ग्रामीण क्षेत्रों में 70 प्रतिशत टेस्ट कराये जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि कुछ विशेषज्ञों द्वारा कहा गया था कि 15 मई के बाद उत्तर प्रदेश में प्रतिदिन 1 लाख से अधिक केस आयेंगे। मुख्यमंत्री जी द्वारा व्यक्तिगत रूप से प्रदेश के सभी जनपदों में लगातार दौरे किया उसी का नतीजा है कि जो विशेषज्ञों की आशंकाएं थी वह निर्मूल साबित हुईं। श्री सहगल ने बताया कि उत्तर प्रदेश का माॅडल जो सामने निकलकर आया है उसकी तुलना अन्य प्रदेशों से की जाय तो जैसे-महाराष्ट्र में 57 लाख कोरोना के मामले आये, केरल में 24 लाख कोरोना के मामले आये, कर्नाटक में 25 लाख से अधिक कोरोना के मामले आये, वहीं उत्तर प्रदेश में सबसे बड़ी जनसंख्या होने के बावजूद भी केवल 16 लाख कोरोना के मामले आये। अगर इसको मृत्यु से तुलना की जाए तो महाराष्ट्र में 513, कर्नाटक में 206, तमिलनाडु में 173, दिल्ली में 459, आंध्र प्रदेश में 83 और उत्तर प्रदेश में 47 प्रति मिलियन है। अगर उसकी तुलना विकसित देशों से की जाए, तो उत्तर प्रदेश की जो जनसंख्या है वो इंग्लैण्ड, इटली, जर्मनी, स्पेन की जनसंख्या के बराबर है। अगर इन एक-एक देशों की जनसंख्या की बात करें तो यहां दो-दो हजार प्रति मिलियन महामारी में डेथ हुई थी। श्री सहगल ने बताया कि प्रदेश में लगभग 80 हजार आॅक्सीजनयुक्त और आईसीयू बेड अस्पतालों में बढ़ाया गया है। मुख्यमंत्री जी ने संभावित तीसरी लहर से बचाव के संबंध में प्रो-एक्टिव नीति अपनाई जा रही है। सभी मेडिकल कालेज में 100-100 बेड के पीआईसीयू के, हर जिला अस्पताल में 25-30 बेड पीआईसीयू के और कम से कम दो सीएससी में पीआईसीयू, पीकू के बेड बढ़ाने के निर्देश दिए गई हैं। प्रदेश में आॅक्सीजन की समुचित व्यवस्था हेतु सभी अस्पतालों 415 प्लाण्ट लगाये जा रहे हैं ताकि अस्पताल आॅक्सीजन की उपलब्धता में आत्मनिर्भर हो जाएं, जिससे भविष्य में आॅक्सीजन की कठिनाई न आये। श्री सहगल ने बताया कि प्रदेश सरकार 04 जून से सीरो सर्वे भी करा रहा है, जिससे पता लगाया जा सके की एन्टीबाॅडी की क्या स्थिति है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जी टीम-9 की बैठक में निर्देश दिए हैं कि ब्लैक फंगस के मरीजों का विशेष ध्यान रखा जाए और प्रत्येक दशा में दवा की उपलब्धता सुनिश्चित कराई जाए। उन्होंने यह भी निर्देशित किया है कि सीएचसी, पीएचसी में डाक्टर की उपलब्धता सुनिश्चित रहे तथा डाक्टर अपनी ग्राउन पर नेमप्लेट जरूर लगायें। श्री सहगल ने बताया कि कोरोना कफ्र्यू है कई जनपदों में कोरोना के मामले कम हुए हैं, तो ऐसे जनपद जहां कोरोना के एक्टिव मामले 600 से कम हैं वहां पर 01 जून से कुछ छूट दी गई है। वहां पर प्रातः 07ः00 बजे से शाम को 07ः00 बजे तक दुकान खोल सकते हैं। उन्होंने बताया कि शनिवार व रविवार साप्ताहिक बंदी के साथ रात्रि कफ्र्यू जारी रहेगा। कोचिंग संस्थान, सिनेमा, जिम, माॅल, स्वीमिंगपूल, पूर्णतया बंद रहेंगे। श्री सहगल ने बताया कि प्रदेश सरकार किसानों के हितों के लिए कृतसंकल्प है और किसानों से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर उनकी फसल को खरीदे जाने की प्रक्रिया कोविड प्रोटोकाल का पालन करते हुए तेजी से चल रही है। 01 अप्रैल से 15 जून, 2021 तक गेहँू खरीद का अभियान जारी रहेगा। गेहँू क्रय अभियान में अब तक 08 लाख 25 हजार से अधिक किसानों से 39,58,271.44 मी0 टन गेहूँ खरीदा गया है। मुख्यमंत्री जी ने आयुक्त एवं सभी जिलाधिकारी को निर्देश दिए हैं कि वे स्वयं और अपने अधीनस्थों के माध्यम से क्रय केन्द्रों का निरीक्षण करते रहें, जिससे किसानों को किसी प्रकार की समस्या न हो। अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य श्री अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि मुख्यमंत्री जी के निर्देशानुसार प्रदेश में बड़ी संख्या में टेस्टिंग कार्य करते हुए, टेस्टिंग क्षमता निरन्तर बढ़ायी जा रही है। गत एक दिन में कुल 3,12,677 सैम्पल की जांच की गयी है। प्रदेश में अब तक कुल 4,94,09,446 सैम्पल की जांच की गयी है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना सेे संक्रमित 1,497 नये मामले आये हैं। प्रदेश में पिछले 24 घंटे में 5,491 कोविड-19 के मरीज ठीक होकर डिस्चार्ज हुए हैं। अब तक 16,33,947 लोग कोविड-19 से ठीक हो चुके हैं। प्रदेश में कोरोना के कुल 37,044 एक्टिव मामले हैं, जिनमें से 20,762 लोग होम आइसोलेशन में हैं। प्रदेश में प्रतिदिन की पाॅजिविटी दर 0.5 प्रतिशत है। प्रदेश में रिकवरी रेट 96.6 प्रतिशत से अधिक हो गयी है। उन्होंने बताया कि सर्विलांस की कार्यवाही निरन्तर चल रही है। प्रदेश में अब तक सर्विलांस टीम के माध्यम से 2,89,882 क्षेत्रों में 6,40,092 टीम दिवस के माध्यम से 3,56,08,434 घरों के 17,12,62,980 जनसंख्या का सर्वेक्षण किया गया है। श्री प्रसाद ने बताया कि 01 जून, 2021 से 23 जनपदों में चल रहे 18-44 वर्ष के आयुवर्ग के लोगों का वैक्सीनेशन को प्रदेश के सभी जनपदों में प्रारम्भ किया जायेगा। उन्होंने बताया कि प्रत्येक जनपद में दो से तीन सेन्टर ऐसे रखे जा रहे हैं, जो कि अभिभावकों समर्पित हैं, इस सेन्टर का नाम अभिभावक स्पेशल बूथ रखा जायेगा। इन बूथों पर वही लोग वैक्सीनेशन करा सकेंगे जिनके 01 बच्चा 12 साल से कम उम्र का होगा। इन बूथों पर जब आप वैक्सीनेशन कराने जायेंगे तो अपने बच्चे का जन्म प्रमाण पत्र लेकर जायें। उन्होंने बताया कि कोविड वैक्सीनेशन का कार्य निरन्तर किया जा रहा है। प्रदेश में अब तक कुल 1,80,08,604 डोजें लगायी गयी हैं। उन्होंने लोगों से कहा कि जिन लोगों ने वैक्सीन की पहली डोज लगवा ली वो समय आने पर वैक्सीन की दूसरी डोज भी अवश्य लगवाये। उन्होंने लोगों से अपील की है कि मास्क का प्रयोग अनिवार्य रूप से करे, सैनेटाइजर व साबुन से हाथ धोते रहे। टीकाकरण के बाद भी कोविड प्रोटोकाॅल का पालन अवश्य करें।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या