दावा : कुँ.राजदीप बुन्देला के पक्ष में दो तिहाई से अधिक बीडीसी ब्लाक प्रमुख चुनाव में प्रमुख बनने का रास्ता साफ

ललितपुर। कहते हैं कि जो जन-जन की सेवा में तत्पर रहता है, वह उस जनता के दिलों पर राज करता है। ऐसे ही व्यक्तित्व के धनी तालबेहट ब्लाक प्रमुख पद के लिए दावेदार कुँ.राजदीप सिंह बुन्देला हैं। जिन्हें दो तिहाई से अधिक क्षेत्र पंचायत सदस्यों ने अपना खुला समर्थन देने की प्रतिबद्धता को दोहराया है। सभी क्षेत्र पंचायत सदस्यों ने कुं.राजदीप सिंह बुन्देला को फूलमालायें पहनाते हुये अपना नेता चुनने की बात की। जिला पंचायत सामान्य निर्वाचन 2021 में अब ब्लाक प्रमुख के लिए चुनाव होना शेष रह गया है। इसके लिए जिले के सभी छह ब्लाकों से सभी राजनैतिक दलों के प्रत्याशी अपने-अपने स्तर से तैयारियों में जुटे हैं। लेकिन तालबेहट ब्लाक में प्रमुख पद का चुनाव लड़ रहे कुँ.राजदीप सिंह बुन्देला के प्रति दावा किया जा रहा है कि दो तिहाई से अधिक क्षेत्र पंचायत सदस्यों का उन्हें खुला समर्थन मिल रहा है। क्षेत्र पंचायत के विजयी सदस्यों ने उन्हें फूलमालाओं को पहनाते हुये अपना नेता (ब्लाक प्रमुख) चुनने का आह्वान किया है। उल्लेखनीय है पंचायत चुनाव के आगाज के पश्चात ब्लाक प्रमुखी पद के दाबेदार चुनावी मैदान में अपनी-अपनी ताल ठोक रहे थे, और सोशल मीडिया व फेसबुक पर सभी दाबेदार अप्रत्यक्ष रूप से अपनी अपनी जीत व भरपुर बहुमत मिलने का दावा कर रहे थे। तो वही कुँ राजदीप सिंह बुन्देला को प्रत्यक्ष रूप से दो तिहाई से अधिक क्षेत्र पंचायत सदस्यों के मिल रहे भरपूर समर्थन का बीडियो व तस्बीरें सोशल मीडीया व फेसबुक पर खूब बायरल हो रही है,जिसके चलते विपक्षी दावेदारों द्वारा अप्रत्यक्ष रूप से अपनी जीत व मिल रहे समर्थन के किये जा रहे दावे मिथ्या व खोखले साबित हो रहे है व वायरल वीडियो ने विपक्षी दावेदारों के निराधार दावो की पोल खोलकर रख दी है,तो वही वायरल वीडियों व तस्वीरों में दो तिहाई से अधिक क्षेत्र पंचायत सदस्यों द्वारा कुँ.राजदीप सिंह बुन्देला को तिलक लगा फूलमाला पहनाकर अपना समर्थन देते हुए उनके पक्ष में जयघोष का नारा बुलन्द करते नजर आ रहे है व क्षेत्र पंचायत सदस्य अपना खुला व भरपूर समर्थन देते स्पष्ट नजर आ रहे है। तो वही कुँ.राजदीप सिंह बुन्देला का ब्लाक प्रमुख बनना स्पष्ट होते हुये तय माना जा रहा है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि