टीकाकरण के लिए युवाओं की लगातार बढ़ रही संख्या

कोर कमेटी की बैठक में डीएम ने की समीक्षा
ललितपुर। जिलाधिकारी अन्नावि दिनेशकुमार की अध्यक्षता में कोविड 19 कोर कमेटी की बैठक कलेक्ट्रेट पार्क में आयोजित की गई। बैठक में सर्वप्रथम विगत 24 घंटे के कोविड परिणामों पर चर्चा हुई। इसके उपरान्त बैठक में कोविड-19 टीकाकरण की चर्चा की गई, जिसमें बताया गया कि आज जनपद में कुल 7063 लोगों का टीकाकरण किया गया है, जिसमे 18-44 आयु वर्ग के कुल 4730 तथा 45+ आयु वर्ग के कुल 2333 लोग शामिल हैं। इस पर जिलाधिकारी ने कहा कि जनपद के युवा आगे आकर स्वयं टीकाकरण कराकर अन्य लोगों को प्रेरित करें। जिलाधिकारी ने यह भी निर्देश दिए कि ऑक्सीजन प्लांट लगने से पूर्व उसको लगाये जाने की तैयारियां व्यवस्थित रूप से पूरी कर ली जाएं, जिससे ऑक्सीजन प्लांट पहुंचने के पूर्व ही उस को इंस्टॉल करने की सारी व्यवस्थाएं दुरुस्त रहें। इसमे किसी प्रकार का विलम्ब न हो। निगरानी समितियों की समीक्षा के दौरान निर्देश दिए गए कि वर्तमान में कोरोना मरीजों की संख्या प्रतिदिन कम हो रही है, परन्तु बरसात के मौसम में संचारी रोगों के फैलने का खतरा बढ़ जाता है, ऐसे में हमें पहले से ज्यादा सतर्क रहना होगा, इसलिए निगरानी समितियां लगातार संदिग्ध मरीजों को ट्रेस करें। सफाई एवं सैनेटाइजेशन की समीक्षा में निर्देश दिए गए कि जनपद में वार्डों एवं ग्रामों में ब्लीचिंग का छिडक़ाव व सैनेटाइजेशन कराते रहें। संचारी रोगों के प्रसार को रोकने के लिए शहरी एवं ग्रामीण स्तर पर स्वच्छता पर विशेष ध्यान दें, साथ ही किसी भी स्थान पर जल का भराव न होने दें। इस कार्य में किसी प्रकार की लापरवाही ना की जाए। इसके अलावा लोगों को संचारी रोगों से बचने के लिए किये जाने वाले उपायों की जानकारी भी दें। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी अनिल कुमार पांडेय, अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व अनिल कुमार मिश्र, अपर जिलाधिकारी न्यायिक रजनीश राय, अपर जिलाधिकारी नमामि गंगे लवकुश त्रिपाठी, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा.डी.के.गर्ग, डी.सी. मनरेगा रविंद्रवीर यादव, ईओ, उप निदेशक कृषि सन्तोष कुमार सविता, जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा.हुसैन खान सहित सम्बन्धित अधिकारी एवं चिकित्सा विभाग के अन्य चिकित्सक उपस्थित रहे। फोटो-पी6

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि