कोविड काल में चिकित्सालय की प्रगति की हुयी समीक्षा

ललितपुर। प्रदेश में महिलाओं की चिकित्सीय स्थिति की जमीनी जानकारी लिये जाने, महिलाओं को शासन द्वारा प्रदत्त सुविधाओं की स्थिति का अवलोकन एवं कोविड काल में गर्भवती महिलाओं तथा अन्य गम्भीर रोगों से पीडि़त महिलाओं को उपलब्ध कराये जा रहे उपचार व्यवस्था का अनुश्रवण करने तथा कोविड-19 से बचाव हेतु टीकाकरण (महिला) की वस्तुस्थिति की जानकारी हेतु जिला महिला चिकित्सालयों एवं जनपद में संचालित प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों का निरीक्षण आयोग की पदाधिकारियों के नेतृत्व में कराये जाने का निर्णय लिया गया है। इसी क्रम में राज्य महिला आयोग सदस्य डा.कंचन जायसवालने जनपद का भ्रमण कर विभिन्न सिलों का निरीक्षण किया। जिसके क्रम में उन्होंने सर्वप्रथम प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र तालबेहट का निरीक्षण किया। यहां पर उन्होंने चिकित्सकों से भर्ती मरीजों को दिये जा रहे उपचार की समीक्षा की। साथ ही चिकित्सालय के विभिन्न कक्षों का निरीक्षण किया। मौके पर उन्होंने मरीजों से बात कर उपचार के बारे में पूछा तथा चिकित्सकों एवं स्टाफ की उपस्थित का भी जायजा लिया। उन्होंने निर्देश दिये कि चिकित्सालय में नियमित रुप से सफाई करायी जाये, साथ ही मरीजों को समय पर दवाएं उपलब्ध करायें। उन्होंने कहा कि महिला मरीजों को प्राथमिकता के आधार पर देखा जाये। इसके उपरान्त उन्होंने लोक निर्माण विभाग सर्किट हाउस में पहुंचकर कोविड-19 के कारण माता-पिता की मृत्यु हो जाने से असहाय हुए दो बच्चों से मुलाकात की। साथ ही मौके पर उपस्थित जिला प्रोबेशन अधिकारी को निर्देशित किया कि समस्त कार्यवाहियां करते हुए सरकार द्वारा इन बच्चों को अनुमन्य सहायता दिलायें। इसके उपरान्त उन्होंने जिला महिला चिकित्सालय का निरीक्षण किया। यहां पर उन्होंने मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा.हरेन्द्र सिंह चौहान से मुलाकात कर कोविड काल के दौरान चिकित्सालय की प्रगति की समीक्षा की। इसके बाद उन्होंने चिकित्सालय के सर्जिकल वार्ड, प्रसव कक्ष, इमरजेंसी वार्ड सहित विभिन्न कक्षों का निरीक्षण किया। सर्जिकल वार्ड में उन्होंने प्रसूताओं से उनका हालचाल लिया, साथ ही चिकित्सालय की स्वास्थ्य सुविधाओं के बारे में पूछा, जिस पर महिलाओं द्वारा व्यवस्थाओं को संतोषजनक बताया गया। इसके उपरान्त उन्होंने चिकित्सा अधीक्षक से स्टाफ की मौजूदगी, दवाओं की उपलब्धता व चिकित्सकों की उपलब्धता के बारे में पूछा, जिस पर बताया गया कि चिक्त्सिालय में चिकित्सकों की कमी है। इमरजेंसी कक्ष के निरीक्षण में प्रवेश द्वार पर लगी सैनेटाईजर मशीन मानक से काफी ऊपर लगी पाई गई, जिस पर निर्देश दिये गए कि उक्त मशीन को मानक के अनुसार लगाया जाये, ताकि महिलाएं उस तक पहुंच सकें। मौके पर उन्होंने महिला चिकित्सालय में स्थापित महिला स्पेशल टीकाकरण केन्द्र का निरीक्षण किया। यहां उन्होंने रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया के बारे में पूछताछ की तथा अपनी उपस्थिति में महिलाओं का कोविड-19 टीकाकरण कराया। इस दौरान सीएमओ डा.डी.के.गर्ग, सीएमएस डा.हरेन्द्र सिंह चौहान, प्रोबेशन अधिकारी सुरेन्द्र कुमार पटेल, क्षेत्राधिकारी सदर महिला पुलिसकर्मी, चिकित्सक एवं अन्य गणमान्य नागरिक उपस्थित रहे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा